48 लाख दैनिक यात्राएं होंगी प्रभावित: दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन

डीएमआरसी ने कहा, “यदि इस समय डिक्री धारक द्वारा प्रार्थना की गई किसी भी प्रार्थना को इस अदालत द्वारा स्वीकार कर लिया जाता है, तो डीएमआरसी का संचालन पूरी तरह से ठप हो जाएगा। वहीं यह देखते हुए कि एनसीआर में डीएमआरसी द्वारा बनाए गए मेट्रो सिस्टम पर रोजाना लगभग 48 लाख यात्राएं होती हैं यह यात्रियों के लिए प्रतिकूल होगा।

निगम ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया कि अगर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) को इस समय दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो एक्सप्रेस प्राइवेट लिमिटेड को ट्रिब्यूनल द्वारा दिए गए पैसे का भुगतान करने के लिए कहा जाता है,हर दिन अड़तालीस लाख लोगों की यात्राएं प्रभावित हो सकती हैं।

जस्टिस वी के राव के सामने दायर एक एफिडेविट में, डीएमआरसी ने कहा, “यदि इस समय डिक्री धारक द्वारा प्रार्थना की गई किसी भी प्रार्थना को इस अदालत द्वारा स्वीकार कर लिया जाता है, तो डीएमआरसी का संचालन पूरी तरह से ठप हो जाएगा। वहीं यह देखते हुए कि एनसीआर में डीएमआरसी द्वारा बनाए गए मेट्रो सिस्टम पर रोजाना लगभग 48 लाख यात्राएं होती हैं यह यात्रियों के लिए प्रतिकूल होगा।

सार्वजनिक ट्रांसपोर्टर की ओर से पेश हुए, अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणि ने अदालत को भुगतान अनुसूची से अवगत कराने के लिए समय मांगा है।

अदालत ने मामले को 31 अक्टूबर के लिए पोस्ट किया है। वहीं डीएमआरसी ने कहा कि उसने अदालत के निर्देशों का पालन करने के लिए ऋण के रूप में केंद्र से 3,500 करोड़ रुपये की मांग की थी।