आप सरकार स्कूल से वंचित छात्रों के लिए शूरू करेगी वर्चुअल क्लासरूम

सीएम केजरीवाल ने कहा “यह स्कूल उन बच्चों तक पहुंच प्रदान करेगा, विशेष रूप से लड़कियों को, जिन्हें विभिन्न कारणों से स्कूल जाने की अनुमति नहीं है।"

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को घोषणा की कि दिल्ली सरकार छात्रों, विशेष रूप से लड़कियों के लिए वर्चुअल क्लासरूम शुरू करने के लिए तैयार है, जो स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। सीएम केजरीवाल ने कहा “यह स्कूल उन बच्चों तक पहुंच प्रदान करेगा, विशेष रूप से लड़कियों को, जिन्हें विभिन्न कारणों से स्कूल जाने की अनुमति नहीं है … पारिवारिक परिस्थितियों के कारण, कई बच्चे भले ही उन्हें इस समय पर काम नहीं करना चाहिए, लेकीन परिवार का समर्थन करने के लिए नौकरी करते हैं, इसलिए यह स्कूल उन सभी को शिक्षा प्रदान करेगा।”

इसे “दिल्ली की शिक्षा प्रणाली में क्रांतिकारी कदम” कहते हुए, केजरीवाल ने बताया कि “वर्चुअल स्कूल” मॉडल के तहत, छात्र ऑनलाइन कक्षाओं में भाग ले सकते हैं और सीख सकते हैं। उन्होंने कहा, “किसी भी कारण से छात्र के छूटने की स्थिति में कक्षा की रिकॉर्डिंग एक वेबसाइट पर भी अपलोड की जाएगी।“

उन्होंने आगे कहा “स्कूली शिक्षा का यह रूप कक्षा 9 से 12 के बीच के छात्रों के लिए शुरू होगा। छात्र आज (31 अगस्त) से आवेदन करना शुरू कर सकते हैं। भारत का कोई भी छात्र वेबसाइट http://www.dmvs.ac.in पर आवेदन कर सकता है और अपना नामांकन करवा सकता है।“

केजरीवाल के अनुसार वर्चुअल स्कूल दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन बोर्ड से संबद्ध होगा। 13 से 18 वर्ष की आयु का कोई भी छात्र और किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से कक्षा 8 पास कर चुका हो, वह प्रवेश के लिए आवेदन कर सकता है।