Lockdown : बिहार और उत्तराखंड में एक जून तक के लिए पाबंदी बढी

प्रदेश के नागरिकों की सुरक्षा ही सरकार की सबसे पहली प्राथमिकता है और भविष्य में कोरोना वायरस के संक्रमण के आंकड़ों में और कमी आने पर तात्कालिक परिस्थितियों के अनुसार, कोरोना कर्फ्यू में ढील दी जा सकेगी।

पटना/देहरादून। कोरोना को लेकर राज्य सरकार अपने हिसाब से पाबंदी बढा रही है। बिहार सरकार और उत्तराखंड की सरकार ने कोरोना के कारण एक जून तक के लिए अपने प्रशासनिक क्षेत्र में पाबंदी बढा दी है। बिहार सरकार ने कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन की अवधि सोमवार को एक जून तक बढ़ा दी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सोमवार को ट्वीट कर कहा, ‘‘कोरोना संक्रमण को देखते हुए पांच मई 2021 से तीन सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगाया गया था। आज फिर से सहयोगी मंत्रीगण एवं पदाधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा की गई। लॉकडाउन का अच्छा प्रभाव पड़ा है और कोरोना संक्रमण में कमी दिख रही है। अतः बिहार में 25 मई के बाद एक सप्ताह के लिए अर्थात एक जून, 2021 तक लॉकडाउन जारी रखने का निर्णय लिया गया है।’’

बिहार में बढ़ते कोरोना (COVID19 in Bihar) संक्रमण के मद्देनजर मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आपदा प्रबंधन समूह की चार मई को हुई बैठक में प्रदेश में पांच मई से 15 मई तक लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया गया था जिसकी अवधि का विस्तार बाद में 13 मई को 25 मई तक कर दिया गया था। 25 मई के बाद लॉकडाउन (Lockdown) पर बिहार सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों के संबंध में मुख्य सचिव त्रिपुरारी शरण प्रदेश के अन्य वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ आज अपराह्न चार बजे मीडिया को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विस्तृत जानकारी देंगे।

बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण रविवार को 107 और लोगों की मौत हो गई थी और प्रदेश में वर्तमान में कोविड-19 के इलाजरत मरीजों की संख्या 40691 है तथा कोविड-19 के कुल मामले 676045 हैं जबकि 4549 लोगों की मौत हो चुकी है ।

इस बीच बिहार सरकार ने अपने मंत्रियों से कहा है कि वे प्रतिबंध की अवधि के दौरान राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं या कोरोना महामारी की स्थिति के संबंध में जानकारी प्राप्त करने के लिए वे अपने निर्वाचन क्षेत्र अथवा प्रभार वाले जिलों अथवा अन्य किसी भी जिले का परिम्रमण न करें। मंत्रिमंडल सचिवालय विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार ने प्रदेश के मंत्रियों के सभी आप्त सचिवों से सोमवार को एक पत्र के माध्यम से कहा कि मंत्री यदि किसी प्रकार की समीक्षा की आवश्यकता महसूस करते हैं तो वीडियो कॉन्फ्रेंस का विकल्प परामर्शित किया जा सकता है।

उत्तराखंड में सोमवार को कोरोना कर्फ्यू को एक जून तक बढ़ाने का निर्णय लिया गया । मंगलवार 25 मई की प्रातः छह बजे कर्फ्यू की अवधि समाप्त हो रही थी । प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और राज्य सरकार के प्रवक्ता सुबोध उनियाल (Subodh Uniyal )ने सोमवार को यहां बताया कि इस दौरान जरूरी सामानों जैसे दूध, मीट, मछली, फल और सब्जी की दुकानें सुबह आठ बजे से 11 बजे तक खुलेंगी । इससे पहले दुकानें खुलने का समय सुबह सात से 10 बजे तक था ।

उनियाल ने बताया कि यह बदलाव व्यापारियों की मांग के अनुरूप मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत (Tirath Singh Rawat) से विचार विमर्श करने के बाद किया गया। उन्होंने बताया कि इसके अलावा, राशन और किराने की दुकानें 28 मई को सुबह आठ बजे से दोपहर 12 बजे तक खुलेंगी । उनियाल ने कहा कि पिछले कई दिनों से कोविड का ग्राफ प्रदेश में कम होता दिख रहा है लेकिन अपने स्तर पर सरकार पूरी तरीके से इसकी रोकथाम में जुटी हुई है।