Home शिक्षा Board Exam Delay in MP : सरकार नहीं लेगी कोई रिस्क,...

Board Exam Delay in MP : सरकार नहीं लेगी कोई रिस्क, मप्र में बोर्ड परीक्षाएं एक माह तक रूकी

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण को देखते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने 30 अप्रैल और एक मई से शुरु होने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को एक महीने के लिए टाल दिया है। छात्रों की सुरक्षा के कारण यह निर्णय लिया गया है। ये परीक्षाएं अब जून के पहले सप्ताह से आयोजित की जा सकती है।

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना (COVID19) संक्रमण काफी तेज है। रात में कई पाबंदियों के बावजूद यह कम नहीं हो रहा है। ऐसे में बोर्ड परीक्षाओं को लेकर सरकार और अभिभावक दोनों संशय में थे। आखिरकार राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) ने 30 अप्रैल से शुरु होने वाली अपनी हाई स्कूल (10 वीं) और हायर सेकंडरी स्कूल (12वीं) की परीक्षाओं को स्थगित कर दिया है।

बुधवार को मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) की ओर से बताया गया कि 30 अप्रैल और एक मई से शुरु होने वाली 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं (Board Exam) को एक महीने के लिए टाल दिया गया है। शिक्षा मंडल के प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के कारण छात्रों की सुरक्षा के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है। अधिकारी ने बताया कि ये परीक्षाएं अब जून के पहले सप्ताह से आयोजित की जा सकती है तथा शिक्षा मंडल (MPBSE) इस संबंध में संशोधित नया कार्यक्रम जारी करेगा।

राज्य में कोरोना की स्थिति कितनी भयावह है, इसका अंदाजा रोजाना के आंकडे बता ही रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह (CM Shivraj Singh Chouhan) लगातार जनता से अपील कर रहे हैं। वे पाबंदियों और स्वास्थ्य दिशा-निर्देशों को पालन करने की बात करते हैं। दूसरी ओर, स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार मध्यप्रदेश (Mdhya Pradesh) में मंगलवार को अब तक एक दिन में सबसे अधिक 8,998 नए मामले दर्ज किये गये। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक इस महामारी के मरीजों की संख्या बढ़कर 3,53,632 तक पहुंच गई है। मध्यप्रदेश में इस महामारी से अब तक 4,261 लोगों अपनी जान गंवा चुके हैं। इनमें से 40 लोगों की मौत पिछले 24 घंटों में हुई है। बता दें कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में मध्यप्रदेश में अप्रैल माह में अब तक 58,121 मामले दर्ज किये गये हैं जबकि इस अवधि में 275 लोग दम तोड़ चुके हैं।

Exit mobile version