Home बिजनेस यू. एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्‍थ ऐंड ह्यूमन सर्विसेस, यू. एस. फूड एण्‍ड...

यू. एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्‍थ ऐंड ह्यूमन सर्विसेस, यू. एस. फूड एण्‍ड ड्रग ऐड्मिनिस्ट्रेशन के प्रतिनिधि मंडल और स्‍थानीय सरकारी अधिकारियों ने भारत में ऐम्नील के विनिर्माण स्‍थल का दौरा किया

नई दिल्ली। ऐम्नील फार्मास्‍युटिकल्‍स, इंक. (NYSE: AMRX) (“ऐम्नीलl” या “कंपनी”) ने आज बताया कि यू. एस. डिपार्टमेंट ऑफ हेल्‍थ ऐंड ह्यूमन सर्विसेस (एचएचएस) और यू. एस. फूड ऐंड ड्रग ऐड्मिनिस्ट्रेशन (एफडीए) के एक प्रतिनिधि मंडल ने स्‍थानीय सरकारी अधिकारियों के साथ हाल में मटोडा, भारत में कंपनी की विनिर्माण केंद्र का दौरा किया। यह दौरा 18 और 19 अगस्‍त को गांधीनगर, भारत में जी20 के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों की बैठक के बाद हुआ, जहाँ दुनियाभर के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री स्‍वास्‍थ्‍य की वैश्विक समस्‍याओं पर चर्चा के लिये एकत्र हुए थे।

प्रतिनिधि मंडल में ग्‍लोबल अफेयर्स की असिस्‍टेन्‍ट सेक्रेटरी सुश्री लॉयस पेस शामिल थीं, जो यू. एस. डिपार्टमेंट ऑफ एचएचएस में वैश्विक प्राथमिकताओं और नीतियों को तय करने का नेतृत्‍व करती हैं। उनके अलावा भारत में यू. एस. एचएचएस हेल्‍थ अटैचे सुश्री जेनेसा जिओर्गी, यू. एस. एफडीए के लिये इंडिया कंट्री डायरेक्‍टर डॉ. सारा मैकमुलन और गुजरात, भारत में इंडिया फूड ऐंड ड्रग कंट्रोल एजेंसी (एफडीसीए) के कमिश्‍नर डॉ. एच जी कोशिया मौजूद थे। ऐम्नील के दौरे में उन्‍होंने कंपनी की उन्‍नत ऑटोमेशन एवं जटिल औषधि क्षमताएं, फार्मास्‍युटिकल विनिर्माण की सामान्‍य जटिलताएं और उन टेक्‍नोलॉजीस में निवेश का महत्‍व देखा, जो सुरक्षित एवं प्रभावी दवाओं की उपलब्‍धता सुनिश्चित करती हैं। मटोडा में ऐम्नील का यह स्‍थल कंपनी की 12 फार्मास्‍युटिकल विनिर्माण कारखानों में से एक है।

सह-मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, चिराग और चिंटू पटेल ने कहा कि, “ऐम्नील एक वैश्विक फार्मास्‍युटिकल कंपनी है, जो किफायती और आवश्‍यक दवाओं को सुलभ बनाने पर फोकस करती है। हमारी बड़ी एवं विविधतापूर्ण उत्‍पाद-सूची में हम मरीजों की आवश्‍यकताएं पूरी करने के लिये महत्‍वपूर्ण उपचार प्रदान करते हैं। हमें दुनिया भर में सुरक्षित एवं प्रभावी औषधियों की आपूर्ति में अपनी भूमिका दिखाने के लिये इस महत्‍वपूर्ण दौरे में भाग लेने पर गर्व है। हमें औषधियों की कमी सहित, यू.एस. औषधि उद्योग की मरीजों की सेवा करने की क्षमता को प्रभावित करने वाले प्रमुख समस्याओं पर काम जारी रखनी की आशा है।”

Exit mobile version