Delhi : तीसरी लहर के लिए तैयार हो रही है दिल्ली, ऑक्सीजन स्टोरेज पर है सरकार का फोकस

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल स्वास्थ्य मंत्री के साथ तमाम स्वास्थ्य सुविधाओं का जायजा ले रहे हैं। सिरसरपुर का दौरा किया और ऑक्सीजन संरक्षण की पूरी जानकारी ली। साथी अस्पतालों को हर स्थिति में तैयार रहने के लिए पहले ही कह दिया गया है।

नई दिल्ली। कोरेाना की दूसरी लहर को राजधानी दिल्ली ने देखा है। अस्पतलों में बेड की दिक्कत और ऑक्सीजन (Oxyegen) की कमी से लोग परेशान रहे। कई लोगों को समय पर स्वास्थ्य सुविधा नहीं मिल पाने के कारण जान तक चली गई। अब दिल्ली सरकार स्वास्थ्य सुविधाओं को कोरोना संक्रमण खासकर संभावित तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर मजबूत कर रही है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल स्वयं तमाम व्यवस्थाओं का निरीक्षण कर रहे हैं। गुरूवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिरसपुर में दिल्ली सरकार के ऑक्सीजन स्टोरेज और जेनरेशन प्लांट का दौरा किया। इस दौरान मुख्यमंत्री अरिवंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा, भविष्य की तैयारियों को लेकर आज सिरसपुर स्थित ऑक्सीजन स्टोरेज सेंटर का दौरा किया। यहां 57 मीट्रिक टन ऑक्सीजन भंडारण क्षमता का क्रायोजेनिक टैंक लगाया जा रहा है, साथ ही यहां 12.5 टन प्रतिदिन की उत्पादन क्षमता वाला oxygen generation plant भी बना रहे हैं। दिल्ली की तैयारियां जारी है दिल्ली में 171 टन क्षमता के ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक बन चुके हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने कहा है कि 21 जून के बाद वो पूरे देश में वैक्सीन फ्री सप्लाई करेगी, केंद्र सरकार ने ये सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद और दबाव में किया है लेकिन देर आए, दुरुस्त आए। लेकिन 21 जून के बाद भी वैक्सीन कहां से आएगी ये बहुत बड़ा सवाल है, वैक्सीन की भारी कमी है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने कहा कि सिरसपुर में 1168 बेड का नया अस्पताल बनाया जा रहा है। दिल्ली सरकार 15 नए अस्पताल बना रही है। ब्लैक फंगस के परसो कुल 1050 के करीब मरीज थे। ब्लैक फंगस की दवा बिल्कुल भी उपलब्ध नहीं है।

बीते कुछ दिनों से दिल्ली में कोरोना संक्रमण की संख्या लगातार हजार से कम आ रहे हैं। दिल्ली में कई पाबंदियां हटा दी गई है। लोग कामकाज पर लौट आए हैं। हालांकि, सरकार की ओर से लगातार कोरोना के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन करने के लिए कहा जा रहा है।