कर्नाटक में भारी बारिश से तबाही, पीएम मोदी ने सीएम से की बात

नवंबर की शुरुआत से राज्य में 87 फीसदी अतिरिक्त बारिश हुई है। आईएमडी ने 25 नवंबर के बाद ही बारिश से राहत की भविष्यवाणी की है। पूरे कर्नाटक में भारी बारिश के लोगों को अलर्ट करने के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है।


नई दिल्ली।
कर्नाटक में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। राज्य सरकार की ओर से राहत और बचाव कार्य किया जा रहा है। आज सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई से बात की और केंद्र सरकार की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है।
एक गहरा निम्न दबाव का क्षेत्र अब दक्षिण-पूर्व और इससे सटे पूर्वी मध्य अरब सागर पर स्थित है। संबद्ध चक्रवाती परिसंचरण मध्य क्षोभमंडल स्तर तक फैल रहा है। अरब सागर के ऊपर कम दबाव वाले क्षेत्र से जुड़े चक्रवाती परिसंचरण से एक ट्रफ रेखा महाराष्ट्र तट तक फैली हुई है। चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र दक्षिण अंडमान सागर और आसपास के क्षेत्र पर बना हुआ है।
धारवाड़ ज़िले में लगातार बारिश से फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। ज़िला इंचार्ज मंत्री शंकर पाटिल, “किसानों की तैयार फसल नष्ट हो गई हैं। किसानों को राहत देने के लिए हमारी सरकार सहायता करेगी। 30 नवंबर तक सभी किसानों के खातों में पैसे पहुंचाए जाएंगे।”
कर्नाटक में 13.2 मिमी के मुकाबले 24.7 मिमी बारिश हुई है। राज्य में अक्टूबर से नवंबर के बीच 51 फीसदी अधिक बारिश दर्ज की गई है। अगले दिन तक भारी बारिश देखी जाएगी, खासकर उत्तर कन्नड़, दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जिलों में। बेंगलुरु में अधिकतम 23.4 डिग्री और 19.3 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया है।