Double Murder Case : आखिरकार पुलिस ने दबोच ही लिया जावेद को

बदायूं डबल मर्डर केस में दूसरे अभियुक्त जावेद को पुलिस ने कल रात बरेली(उत्तर प्रदेश) से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के पास मौजूद एक वीडियो में उसे यह कहते हुए सुना जा सकता है, "...मैं सीधे दिल्ली भाग गया था और मैं खुद को सरेंडर करने बरेली आया हूं... मेरे भाई ने क्या किया, इसके बारे में मुझे लोगों से फोन आए हैं..."

 

बदायूं। उत्तर प्रदेश के बदायूं में हुए डबल मर्डर मामले में पुलिस ने दूसरे आरोपी जावेद को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी जावेद पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम भी रखा था। दोनों मासूमों की हत्या को अंजाम देने के बाद से ही जावेद फरार चल रहा था। वो लगातार पुलिस की गिरफ्त से भाग रहा था। शुरुआती जानकारी के मुताबिक जावेद को बरेली से गिरफ्तार किया गया है।

बता दें कि घटना को अंजाम देने के बाद ही जावेद मोबाइल बंद कर दिल्ली भाग गया था। देर रात सेटेलाइट बस स्टैंड पर स्थानीय लोगों ने जावेद को पकड़ा और उसे पुलिस के हवाले किया है। यानी पुलिस जावेद को देर रात को ही गिरफ्तार कर चुकी थी। पुलिस की कई टीमें घटना के बाद से ही आरोपी जावेद की तलाश में जुटी हुई थी।

इस घटना के बाद आरोपियों के खिलाफ मृतक बच्चों के पिता ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। प्राथमिकी के मुताबिक, आरोपी उस परिवार को जानकार था और अपनी पत्नी के प्रसव के लिए रुपये मांगने वहां गया था। पुलिस ने नाबालिग भाइयों की हत्या के आरोपियों के पिता और चाचा को बुधवार को हिरासत में ले लिया। पुलिस महानिरीक्षक (बरेली रेंज) आरके सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि हत्या के कुछ घंटों बाद ही आरोपी साजिद (22) को मुठभेड़ में मार गिराया गया। इलाके में हाल ही में नाई की दुकान खोलने वाले साजिद ने मंगलवार को एक घर में घुसकर तीन नाबालिग भाइयों- आयुष (12), अहान उर्फ हनी (8) और युवराज (10) पर चाकू से हमला कर दिया। आयुष और अहान की मौत हो गई, जबकि युवराज को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। मृतकों के पिता विनोद कुमार की शिकायत पर दर्ज प्राथमिकी के मुताबिक, ‘‘आरोपी साजिद अपने भाई जावेद के साथ मंगलवार सुबह करीब सात बजे उनके घर पहुंचा। साजिद ने मेरी पत्नी संगीता से अपनी पत्नी के प्रसव के लिए पांच हजार रुपये मांगे। जब मेरी पत्नी पैसे लेने अंदर गई तो साजिद घर की छत पर चला गया और जावेद भी छत पर पहुंच गया जिसके बाद दोनों ने मेरे दो बेटे- आयुष और अहान को भी छत पर बुलाया।’’ इसके अनुसार ‘‘ दोनों ने तेज धारदार चाकू से मेरे बेटों पर हमला कर दिया।’’