रामनवमी पूजा और नॉन वेज खाने के आरोप को लेकर जेएनयू में मार-कुटाई

यूनियन ने कहा कि खाने की सूची में वेज और नॉन वेज दोनों तरह के फूड हैंं। जिसकी जो मर्जी हो, वो खाए लेकिन एबीवीपी के कार्यकर्ताओं चाहते हैं कि रात के खाने में बदलाव हो। इसके लिए वो गुंडागर्दी कर हंगामा कर रहे हैं। आरोप के मुताबिक एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने मेस के कर्मचारियों से मांसाहारी खाना नहीं बनाने की बात कही है।

नई दिल्ली। देश का प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय जवाहर लाल नेहरू में छात्रों के बीच रविवार की शाम जमकर मार-कुटाई हुई है। कई वीडियो वायरल हो रहे हैं। मामला जेएनयू के कावेरी हॉस्टल से जुड़ा है। बताया जा रहा है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के समर्थक कावेरी हॉस्टल के सामने रामनवमी के अवसर पर पूजा और हवन कर रहे थे। अंदर मेस में इफतार की पार्टी चल रही थी।
वाम मोर्चा से जुड़े छात्र संघ के नेताओं का कहना है कि हर रविवार को जेएनयू के तमाम हॉस्टल में नॉन वेज बनता है, लेकिन आज कावेरी के मेस में एबीवीपी के छात्रों ने विरोध किया। इसको लेकर बवाल मचना शुरू हुआ। शुरु में बहस हुई और उसके बाद पत्थरबाजी और मार कुटाई तक पहुंची। कई छात्रों के घायल होने की सूचना है। घायल छात्रों को सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया है। वहीं, दिल्ली पुलिस की ओर से मामले की जांच की जा रही है।
जेएनयू स्टूडेंट यूनियन का कहना है कि अपनी नफरत की राजनीति के एजेंडे को लेकर एबीवीपी के छात्रों ने कावेरी हॉस्टल में माहौल खराब कर दिया है। वो लोग हिंसा पर उतर आये हैं। यूनियन का आरोप है कि एबीवीपी मेस कमेटी को रात के खाने के बदलाव करने के लिए धौंस दे रहे हैं। इसके अलावा एबीवीपी के गुंडे मेस के लोगों और लेफ्ट विंग के छात्रों पर से मारपीट कर रहे हैं।