दलबदल नहीं, घर वापसी : सावित्री जिंदल

देश विदेश के अरबपतियों की सूची में महिलाओं में काफी ऊपर स्थान पर विराजमान व हरियाणा की पूर्व मत्री सावित्री जिंदल ने लगभग दस साल राजनीतिक गतिविधियों से दूरी बनाये रखी ।

नई दिल्ली। वैसे वे दिल्ली से हिसार जिंदल हाउस आती रहीं लेकिन पहले जैसी सक्रियता नहीं दिखाई । लोकसभा चुनाव के शुरू में ही न केवल श्रीमती सावित्री जिंदल बल्कि इनके बेटे व पूर्व सांसद नवीन जिंदल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गये । सुशीला भवन में जिस दिन भाजपा के हिसार लोकसभा प्रत्याशी चौ रणजीत चौटाला के कार्यालय का उद्घाटन करने पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी आये, तब अपने साथियों, विशेषकर पूर्व मेयर शकुंतला राजलीवाल, जगदीश जिंदल व वेद रावल आदि सहित भाजपा में शामिल हो गयीं । इस तरह एक बार फिर श्रीमती सावित्री जिंदल राजनीति में चर्चित हो उठीं ।

-आपने दलबदल क्यों कर लिया या कांग्रेस छोड़ने का फैसला क्यों किया?
-नहीं । हमने दलबदल नहीं किया बल्कि ‘घर वापसी’ की है भाजपा में ।

-वह कैसे?
-आपको याद दिला दूं जब मेरे पति ओमप्रकाश जिंदल ने हविपा के साथ राजनीति में कदम रखा, तब हविपा का भाजपा के साथ गठबंधन था और तभी से भाजपा नेताओ से हमारे परिवार के अच्छे संबंध हैं । आप इसे दलबदल नहीं, घर वापसी कह सकते हैं। नवीन जिंदल को प्रधानमंत्री मोदी ने आशीर्वाद देकर कुरूक्षेत्र से चुनाव में उतारा है।

-लोगों से पहले की तरह मिलजुल रही हैं ?
-मैं पिछले दस साल में भी लोगों से मिलती जुलती रही हूँ क्योंकि हिसार मेरा घर है और घर के लोगों का हालचाल जानती रहती हूँ । देश विदेश में जिंदल उद्योग का नाम हिसार से ही जाना जाता है न कि किसी और जगह से ।

-क्या आप विधानसभा चुनाव लड़ेंगीं?
-वह समय जब आयेगा, तब इसकी बात होगी । अभी सिर्फ लोकसभा चुनाव सामने है, यह अच्छा निकल जाये ! यही दुआ है ।

-आप प्रतिदिन प्रचार के लिए निकलती हैं?
-नहीं। ‌जब जब संदेश आता है और जहां मेरी जरूरत होती है तभी आती हूँ क्योंकि बेटे नवीन के चुनाव क्षेत्र कुरूक्षेत्र में भी जाती हूँ । आज मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी के हिसार में अनेक कार्यक्रम थे, इसलिए हिसार आई। कल कुरूक्षेत्र जाऊंगी !

-आपको लगता है कि हिसार का कुछ विकास बच रहा है या आपके मन में कुछ योजना हो?
-नहीं। मैंने हिसार की काफी समस्याओं पर ध्यान दिया और आगे भी ध्यान देती रहूंगी लेकिन विशेष योजना अभी कोई नहीं है।