गोल्डन ग्रेट नीरज चोपड़ा ने तोड़ा अपना बनाया हुआ रिकार्ड, स्टाकहोम लेग आफ द डायमंड लीग में भी लेंगे हिस्सा

नीरज ने 89.30 मीटर के थ्रो फेंककर ओलिंपिक 2020 के अपने ही 87.58 मीटर के नेशनल रिकॉर्ड को पुनः बदल दिया है। हालाँकि इस रिकॉर्ड को हासिल करने के बाद भी उन्हें रजत पदक से ही संतुष्ट होना पड़ा, जबकि फिनलैंड के हेलांडेर ने 89.93 मीटर के थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता है।

उतरी यूरोप के फ़िनलैंड में चल रहे पावो नुरमी गेम्स (Paavo Nurmi Games) 2022 में भारत के गोल्डन बॉय कहे जानेवाले नीरज चोपड़ा ने फिर से इतिहास रच डाला है। 14 जून मंगलवार को तुरुक में चल रहे भाला फेंक इवेंट में नीरज ने अपने ही रिकॉर्ड को तोड़कर नया कीर्तिमान स्थापित किया है, उन्होंने 89.30 मीटर के थ्रो फेंककर ओलिंपिक 2020 के अपने ही 87.58 मीटर के नेशनल रिकॉर्ड को पुनः बदल दिया है। हालाँकि इस रिकॉर्ड को हासिल करने के बाद भी उन्हें रजत पदक से ही संतुष्ट होना पड़ा, जबकि फिनलैंड के हेलांडेर ने 89.93 मीटर के थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता है।
हाल ही में मीडिया से एक बातचीत के दौरान उन्होंने कहा था कि वे 90 मीटर से दूर भाला फेंकने के विचार से खुद पर दबाव नहीं डालेंगे और अमेरिका के यूजीन में 15-24 जुलाई 2022 के बीच होने वाली विश्व चैंपियनशिप के दौरान अपने आप को शिखर पर पहुँचाने की कोशिश करेंगे।

अनुराग ठाकुर सहित कई दिग्गजों ने दी बधाई

पावो नूरमी खेल एक विश्व एथलेटिक्स कॉन्टिनेंटल टूर गोल्ड सीरीज इवेंट है, जो डायमंड लीग के बाद सबसे प्रतिष्ठित एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में से एक है। भारत की तरफ से नीरज चोपड़ा की इतनी बड़ी उपलब्धि पर राष्ट्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर सहित कई दिग्गज खिलाडियों ने उनको अपने ट्विटर हैंडल से बधाई भी दी और उनके स्वर्णिम भविष्य की कामना भी की है। अनुराग ठाकुर ने लिखा “गोल्डन ग्रेट नीरजचोपड़ा ने एक बार फिर अपने प्रदर्शन से युवाओं में खेलों के प्रति जोश जगा दिया। नीरज ने एक नया राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने के लिए पावो नूरमी खेलों में 89.30 मीटर का भाला फेंका!”

बता दें कि ओलिंपिक के बाद नीरज का यह पहला टूर्नामेंट था जिसमें उन्होंने हिस्सा लिया था, इसके लिए उन्होंने पिछले महीने यूएसए और तुर्की में प्रशिक्षण भी लिया था। इसके बाद वो फ़िनलैंड मे ही 30 जून को होने वाले ‘स्टाकहोम लेग आफ द डायमंड लीग’ में भी हिस्सा लेंगे, जो जेवलिन थ्रो का सबसे बड़ा टूर्नामेंट है। वहीं इस बड़ी जीत के साथ ही आगे होने वाले वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप और कॉमनवेल्थ खेलों में उनसे पदक की उम्मीदें लगाई जा रही हैं।