सरकार ने रतन टाटा समेत तीन लोगों को किया पीएम केयर्स फंड का ट्रस्टी नियुक्त

पीएमओ ने कहा कि “सार्वजनिक जीवन का उनका विशाल अनुभव विभिन्न सार्वजनिक जरूरतों के लिए फंड को और अधिक उत्तरदायी बनाने में और मजबूती प्रदान करेगा।"

प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक बयान में कहा कि उद्योगपति रतन टाटा, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश केटी थॉमस और लोकसभा के पूर्व डिप्टी स्पीकर करिया मुंडा को पीएम केयर्स फंड के ट्रस्टी के रूप में नियुक्त किया गया है।

कल, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम केयर्स फंड के ट्रस्टी बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता की, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी हिस्सा लिया। बता दें कि शाह और सीतारमण दोनों ही पीएम केयर्स फंड के ट्रस्टी हैं।

बैठक के दौरान, रतन टाटा, चेयरमैन एमेरिटस, टाटा संस; जस्टिस केटी थॉमस, पूर्व एससी जज और करिया मुंडा तथा पूर्व डिप्टी स्पीकर को पीएम केयर्स फंड के नए ट्रस्टी के रूप में नियुक्त किया है।

पीएमओ के अनुसार, ट्रस्ट ने आगे अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तियों को पीएम केयर्स फंड में सलाहकार बोर्ड के गठन के लिए नियुक्त करने का निर्णय लिया है। इन प्रतिष्ठित व्यक्तियों में राजीव महर्षि, भारत के पूर्व नियंत्रक और महालेखा परीक्षक; सुधा मूर्ति, पूर्व अध्यक्ष, इंफोसिस फाउंडेशन, और आनंद शाह, टीच फॉर इंडिया के सह-संस्थापक और इंडिकॉर्प्स और पीरामल फाउंडेशन के पूर्व सीईओ शामिल हैं।

प्रधान मंत्री ने कहा कि नए ट्रस्टियों और सलाहकारों की भागीदारी से पीएम केयर्स फंड के कामकाज पर व्यापक दृष्टिकोण मिलेगा।

वहीं पीएमओ ने कहा कि “सार्वजनिक जीवन का उनका विशाल अनुभव विभिन्न सार्वजनिक जरूरतों के लिए फंड को और अधिक उत्तरदायी बनाने में और मजबूती प्रदान करेगा।”