Himachal Cloudburst News – हिमाचल प्रदेश में बारिश से भारी तबाही, जानमाल की क्षति की है आशंका

कोरोना का असर कम हुआ तो गर्मी के मौसम में लोग पहाड़ों की ओर निकल पड़ें। हिमाचल प्रदेश में काफी बारिश और बादल फटने की खबर है। नुकसान की सूचना है। राहत व बचाव कार्य जारी है।

शिमला। बादल फटने के बाद पहाड़ी इलाकों में कैसी तबाही आती है, दुनिया ने कई बार देखा है। कुछ साल पहले केदारनाथ की तबाही आज भ लोगों के जेहन में याद है। सोमवार को जब हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में बादल फटा और उसके बाद सैलाब में गाड़ियां तक बहने लगी, तो लोगों को केदारनाथ का दृश्य याद आने लगा। जिस वक्त यह घटना हुई, उस दौरान भी पर्यटकों की भारी भीड़ भागसू नाग और आसपास के इलाकों में मौजूद थी।

धर्मशाला में बारिश से मांझी नदी में उफान आने से क़रीब 10 दुकानें क्षतिग्रस्त हुईं। बद्री ग्राम पंचायत के उप प्रधान ने बताया, “यहां पर करीब 10 दुकानें और 4-5 मकान नदी में बह गए हैं। मकान में रहने वालों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया है, जान का नुकसान नहीं हुआ है।” धर्मशाला के मकलोडगंज से करीब दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित फागसू में सोमवार को सुबह बादल फट गया। पर्यटकों और स्थानीय लोगों की गाड़ियां भी पानी के तेज बहाव में बह गईं। इस हादसे में दो लोग लापता भी हुए हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। कांगड़ा के डिप्टी कमिश्नर निपुन जिंदल ने कहा कि हम यह नहीं कह सकते कि यह बादल फटने की घटना है। यह भारी बारिश के चलते बाढ़ आने की घटना है।

राज्य के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने लोगों से अपील की है कि सतर्कता बरतें। जिन क्षेत्रों में बारिश आदि अधिक हो रही है, वहां जाने से बचें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के जिला कांगड़ा सहित विभिन्न क्षेत्रों में भारी बरसात के कारण काफी नुकसान हुआ है, जिसकी हमने रिपोर्ट मंगवाई है। हमने सभी जिलों के उपायुक्तों को राहत कार्यों एवं प्रभावितों को हरसंभव सहायता प्रदान करने के निर्देश दे दिए हैं।

राज्य सरकार की ओर से तमाम राहत एवं बचाव कार्य जारी है। केंद्र सरकार ने हिमाचल प्रदेश सरकार को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है।

धर्मशाला, शिमला, मनाली और उत्तराखंड के मसूरी समेत कई पर्यटन स्थलों में लोगों की भीड़ है।

Read More Latest News