है वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट तो 28 जून से आपके लिए खुला है महाकाल का मंदिर

द्वादश ज्योर्तिलिंग में प्रसिद्ध महाकाल का दर्शन कर सकते हैं। 28 जून से मंदिर प्रशासन ने इसकी अनुमति दी है। इसके लिए कोविड गाइडलाइन का पालन करना होगा। जो भक्त कोरोना वैक्सीन ले चुके हैं, उन्हें ही मंदिर परिसर में प्रवेश दिया जाएगा।

उज्जैन। कोरोना से जंग में कोरोना वैक्सीन ही सबसे बेहतर विकल्प है। मध्य प्रदेश में भले ही संक्रमण के दैनिक मामलों में कमी दर्ज की जा रही हो, लेकिन लोगों को अभी भी सचेत रहने की जरूरत है। महाकाल मंदिर प्रशासन की ओर से 28 जून से दर्शनार्थियों के लिए मंदिर खोलने की योजना है। इसके लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट अनिवार्य किया जा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, श्री महाकालेश्वर मन्दिर में दर्शनार्थियों के लिए 28 जून से दर्शन प्रारम्भ किया जाएगा। मंदिर प्रशासन की ओर से कहा गया है कि ऑनलाइन बुकिंग करवाने पर स्लॉट अनुसार दर्शन की अनुमति दी जाएगी। दर्शन के लिए जो भी श्रद्धालु आएंगे, उन्हें कोरेान गाइडलाइन का पालन करना होगा।

उज्जैन के कलेक्टर एवं श्री महाकालेश्वर मन्दिर प्रबंध समिति के अध्यक्ष आशीष सिंह द्वारा जानकारी दी गई कि वेक्सीनेशन सर्टिफिकेट (एक डोज लगवाने पर भी) या 24 से 48 घंटे पूर्व की कोविड रिपोर्ट दिखाने पर ही मन्दिर परिसर में प्रवेश दिया जायेगा। ऐसा निर्णय कोरोना संक्रमण से बचने के लिए किया जा रहा है।

लोगों का कहना है कि जो लोग वैक्सीनेशन नहीं करा रहे हैं, इस आदेश के बाद वो लोग भी कराएंगे। क्योंकि उन्हें पता है कि यह अनिवार्य कर दिया गया है। बता दें कि द्वादश ज्योर्तिलिंग में महाकाल के प्रति लोगों की अगाध आस्था है। उज्जैन रेल मार्ग से जुडा है और यहां का नजदीकी हवाई इंदौर है।

गौर करने लायक यह भी है कि मध्य प्रदेश सरकार लगातार प्रदेश में वैक्सीनेशन को लेकर लोगों को जागरूक कर रही है। राजय के मंत्री विश्वास सारंग की ओर से कहा गया है कि 21 जून से 7,000 स्थलों पर एकसाथ महा वैक्सीनेशन अभियान की शुरू करेंगे। इन स्थानों पर समाज सेवक, राजनीतिक दल के कार्यकर्ता, साहित्यकार, कलाकार, इतिहासकार और फिल्मी हस्ती वैक्सीनेशन कार्यक्रम से लोगों को जोड़ने के प्रचार प्रसार में शामिल होंगे।