हर ओर महंगाई, कांग्रेस ने कहा गलत नीतियों से बढ़ी महंगाई

महंगाई को लेकर आम जनता परेशान है। कांग्रेस ने जनता की ओर से मांग की है कि साबुन, तेल, बिस्किट, टूथपेस्ट, कपड़े जैसी रोजमर्रा की चीजों पर जीएसटी काउंसिल की मीटिंग बुलाकर प्रधानमंत्री इसमें हस्तक्षेप करें।

नई दिल्ली। पहले तेल के दाम बढ़े। फिर रसोई गैस के और अब कई राज्यों में दूध के दाम बढ़ गए। बीते कुछ दिनों से कांग्रेस ने इसको लेकर मोर्चा खोला हुआ है, लेकिन केंद्र सरकार की नीतियों में कोई परिवर्तन नहीं दिख रहा है। मंगलवार को पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री व कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने इसके लिए सीधे तौर पर केंद्र सरकार की गलत नीतियों को कारण बताया है। चंडीगढ़ में महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सब्जियों, दूध और पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

मीडिया से बात करते हुए पी चिंदबरम ने कहा कि महंगाई मांग बढ़ने और लोगों के हाथ में ज़्यादा पैसे होने की वजह से नहीं हुई है। ये महंगाई सरकार की गलत नीतियों और अर्थव्यवस्था के अनुपयुक्त प्रबंधन की वजह से हुई है। इस महंगाई के लिए अगर कोई जिम्मेदार है, तो वो सिर्फ मोदी सरकार है; यह महंगाई मांग बढ़ने की वजह से नहीं हुई है, लोगों के हाथ में ज्यादा पैसा ह, इसलिए भी नहीं हुई, यह महंगाई सरकार की गलत और जन विरोधी नीतियों का परिणाम है।

सच्चाई ये भी है कि एक तरफ महंगाई की मार और दूसरी तरफ बेरोजगारी की धार; पहली बार इस देश में वर्षों के बाद बेरोजगारी की दर 8% को पार कर गयी है । वो सारे प्रान्त जहाँ बेरोजगारी की दर 20%, 25% और 30% है वो सभी भाजपा शासित प्रदेश हैं; नौकरियां जा रही हैं; 4 करोड़ के करीब रोजगार अकेले लॉकडाउन में चले गए।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की ओर से भी कहा गया है कि महंगाई पर सरकार से एक सीधा सवाल – ‘आप इधर-उधर की बात न करें, ये बताएं कि ये लूट बंद कब होगी।’ रसोई का बजट, खेत की लागत, ढुलाई का खर्च बढ़ने से समाज का हर वर्ग परेशान है और जनता को राहत मिलने तक कांग्रेस पार्टी का सड़कों पर संघर्ष जारी रहेगा।

बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने पेट्रोल-डीज़ल और गैस की बढ़ती कीमतों के खिलाफ जयपुर में विरोध प्रदर्शन किया। पिछले 7 साल से मोदी सरकार पेट्रोलियम उत्पादों पर जनता से वसूली करने पर लगी हुई है। मोदी सरकार की लूट ने देशवासियों की कमर तोड़ने का काम किया है, अब इस मोदी टैक्स की लूट पर तत्काल रोक लगाकर जनता को राहत पहुंचाई जानी चाहिए।