28 जून: जानिए राष्ट्रिय अलास्का दिवस क्यों मनाया जाता है और क्या है इसका इतिहास ?

एक लम्बे अरसे तक रूस साम्राज्य का हिस्सा होने बाद 30 मार्च, 1867 को यूनाइटेड स्टेट ने रूस से करीब 72 लाख डॉलर में अलास्का को खरीद लिया था।

अमेरिकी वासी अलास्का में हर साल 28 जून को एक अनूठे दिन के रूप में मनाते चले आ रहे हैं, वह खास दिन और कुछ नहीं बल्कि राष्ट्रीय अलास्का दिवस है। यह दिन बहुत सारे मायनों में अलास्का वासियों के साथ साथ अमेरिका में बसे लोगों के लिए भी उतना ही महत्वपूर्ण है। इस दिन को एक उत्सव की तरह मानाने के पीछे अमेरिका का उद्देश्य उसकी एकता को भी प्रदर्शित करना है।

अलास्का को न सिर्फ अमेरिका के सबसे बड़े राज्य के रूप में जाना जाता है, बल्कि इसकी पहचान वहां बसे ऊँचे ऊँचे पहाड़ों और उसकी चोटियों से भी है। यहां तक कि अमेरिका के सबसे ऊँची ऊँची चोटियों का डेरा भी इन्हीं अलास्का के पहाड़ों पर है। लोग भले ही इस दिन को राष्ट्रिय अलास्का दिवस के रूप में सबसे पहले किसने मनाया यह नहीं जानते हों, लेकिन यह राज्य 19वीं सदी में अमेरिका में शामिल हुआ, और यह आज भी एक अभिन्न अंग के रूप में देश का महत्त्वपूर्ण हिस्सा है।

एक लम्बे अरसे तक रूस साम्राज्य का हिस्सा होने बाद 30 मार्च, 1867 को यूनाइटेड स्टेट ने रूस से करीब 72 लाख डॉलर में अलास्का को खरीद लिया था। औपचारिक तौर पर ध्वजारोहण का कार्यक्रम 18 अक्टूबर, 1867 को ‘सीताका’ के किले में हुआ था। जहाँ के मूल समारोह में सिर्फ यूनाइटेड स्टेट सेना के 250 सैनिक शामिल थे, जिन्होंने “कैसल हिल” में वहां के गवर्नर के घर तक मार्च किया था। यहां रूसी सैनिकों ने रूसी झंडा उतारा और यू.एस. झंडा फहरायाऔर आधिकारिक तौर पर उन्हें मान्यता प्रदान की। विश्व के हरेक कोने से प्रत्येक वर्ष लाखों की संख्या में पर्यटक प्रेमी यहाँ आते हैं। प्रकृति से भरी यह जगह प्रकृति प्रेमियों को भी लुभाती है। साथ ही यह विविधताओं से पूर्ण राज्य अमेरिका की शोभा में चार चाँद लगाता है।