International Yoga Day 2022: 21 जून को मनाए जाने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर जानिए योग के फायदे

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में की थी। बता दें कि पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ की बैठक में योग दिवस को मनाने के लिए प्रस्ताव रखा था।

भारत में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून को मनाया जाता है। यह न केवल योग को मनाने का दिन है, बल्कि पूरे विश्व में योग के लाभों के बारे में जागरूकता पैदा करने का भी दिन है। इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की ‘थीम मानवता के लिए योग है।‘ स्वास्थ्य और सौंदर्य दोनों के लिए आवश्यक योग अभ्यासों में से प्राणायाम एक महत्त्वपूर्ण योग है, क्योंकि यह तनाव को कम करने, ऑक्सीजन बढ़ाने और रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करता है। हर दिन कुछ मिनट योग करने से हमारे शरीर की आंतरिक सफाई होती है। वहीं इन अभ्यासों का अब पूरी दुनिया में पालन किया जा रहा है।

प्राणायाम की विधि

उंगलियों से एक नथुने को बंद करें। फिर दूसरे नथुने से सांस अंदर लें। हवा को छोटे छोटे सांस लेते हुए अंदर खींचे। फिर दूसरे नथुने को बंद करें और सांस छोड़ें। दूसरे नथुने से फिर से सांस लें और इसी तरह से सांस छोड़ें। इस प्रक्रिया को दस बार दोहराएं। यह खून के प्रवाह को शुद्ध करता है और पूरे फ़िल्टरिंग सिस्टम को साफ करता है।

बता दें कि योग रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, जिसमें त्वचा की सतह पर रक्त का संचार भी शामिल है। यह त्वचा के अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह त्वचा को आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति करने में मदद करता है तथा त्वचा के रंग को निखारने में भी मदद करता है। इसके साथ ही योग त्वचा के ऑक्सीजन स्तर में भी सुधार करता है और त्वचा को बढ़ती उम्र के असर और समस्याओं से मुक्त रखता है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में की थी। बता दें कि पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ की बैठक में योग दिवस को मनाने के लिए प्रस्ताव रखा था। 11 दिसंबर 2014 को यह घोषणा की गई थी कि हर साल 21 जून के दिन को अंतराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाएगा।