Home राष्ट्रीय दो रंगकर्मियों को दिया गया ‘मैलोरंग नेपथ्य रंगसम्मान’ – 2023.

दो रंगकर्मियों को दिया गया ‘मैलोरंग नेपथ्य रंगसम्मान’ – 2023.

‘मैलोरंग नेपथ्य रंगसम्मान’ से सम्मानित हुए अनिला सिंह एवं श्रीकांत किशोर

नई दिल्ली। रंगमंच के लिए आवश्यक तत्व है – नेपथ्य । जिस नाट्यदल का नेपथ्य समूह जितना मजबूत होता है वह समूह उतनी ही अच्छी नाट्य प्रस्तुति कर पाता है । पर, विडम्बना है कि नेपथ्य से जुड़े लोग प्राय: कहीं पीछे छूट जाते हैं । ऐसे में दिल्ली की प्रमुख नाट्य संस्था ‘मैलोरंग’ रंगमंच के लिए नेपथ्य में योगदान देने वाले रंगकर्मियों को, जिनके योगदान को अभी तक प्रमुखता से सामने नहीं रखा जा सका है, उन रंगकर्मियों को सम्मानित करने की दिशा में ‘नेपथ्य रंगसम्मान’ नाम से वार्षिक सम्मान प्रदान करता है । इस सम्मान के संयोजक रंगऋषि प्रो. देवेंद्र राज अंकुर जी हैं, जो स्वयं ‘कहानी का रंगमंच’ के जन्मदाता हैं तथा राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के पूर्व निदेशक भी रह चुके हैं । सम्मान संचालन प्रक्रिया मैलोरंग के निदेशक डॉ. प्रकाश झा की देखरेख में सम्पादित होता है ।

‘नेपथ्य रंगसम्मान’ से सम्मानित रंगशीर्ष को एक प्रतीक चिह्न, अंगवस्त्र एवं 51,000/- रुपये की राशि भी प्रदान की जाती है । वर्ष 2023 के लिए चौथे एवं पाँचवें मैलोरंग ‘नेपथ्य रंगसम्मान’-2023 की घोषणा एक साथ की गई । सुप्रसिद्ध परिधान परिकल्पक सुश्री अनिला सिंह खोसला को चौथे तथा रंगसमीक्षा, अनुवाद एवं नाट्य लेखन के क्षेत्र में योगदान देने वाले श्री श्रीकांत किशोर को पाँचवे ‘नेपथ्य रंगसम्मान’ से सम्मानित किया गया । श्रीकांत किशोर वर्तमान में सी.आई.एस.एफ. में डी.आई.जी. के पद पर आसीन हैं ।


यह भव्य सम्मान समारोह दिनांक 03 दिसम्बर, 2023 को, सायं 5.00 बजे दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय परिसर में स्थित सम्मुख सभागार में आयोजित किया गया । इस अवसर पर भारतीय रंगमंच के वरिष्ठ रंग निर्देशक श्री एम. के. रैना मुख्य अतिथि के रूप में तथा प्रो. महेश आनंद विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे । सम्मान समारोह की अध्यक्षता श्री चितरंजन त्रिपाठी (निदेशक, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय) द्वारा किया गया । आयोजन में कई वरिष्ठ रंगकर्मी, साहित्यकार आदि उपस्थित थे । आयोजन का विधिवत संचालन वरिष्ठ रंगकर्मी श्री अमिताभ श्रीवास्तव द्वारा किया गया ।
नेपथ्य के लोगों को सम्मानित करने की मैलोरंग के इस पहल का सभी ने हृदय से स्वागत किया ।

Exit mobile version