Monsoon Diet : फिट रहना है तो ये नहीं खाएं

मनसून में चटापटा खाने को मन करता है। फिर निकल पड़ते हैं बाहर और रोडसाइड फूड पर टूट पड़ते हैं। ये गलत है इस मौसम में। अन्यथा लेने के देने पड़ सकते हैं।

नई दिल्ली। मानसून में खाने में बरती लापरवाही बीमारियों का खुला न्यौता है। इसका मतलब यह नहीं कि खाना ही छोड़ दें। सब कुछ खाएं, पर घर पर बना ताज़ा खाना ही खाएं। फिर नहीं जकड़ेगी फूड से जुड़ी बीमारियां।

इन्हें खाने से बचें

  •  बारिश में कचोड़ी और समोसा जैसी चीजों से भी परहेज करना चाहिए। इनके साथ मिलने वाली चटनी और सॉस ताजी नहीं होती है, इसके अलावा समोसे के अंदर भरी जानी वाली सामग्री भी पहले से ही तैयार कर ली जाती है, जो कई रोगों का वाहक होती है।
  • बारिश के मौसम में अगर आप स्टरीट फूड खाने का लालच नहीं छोड़ेंगी, तो अनायास ही खुद को और अपने परिवार को बीमार करेंगी। इस समय रोड पर मिलने वाले चाइनीज फूड जैसे स्प्रिंग रोल, मोमोज आदि को अपने आहार का हिस्सा बनाने से बचें। इन्हें बनाने में तेज मसाले, अजीनोमोटो, आर्टिफिशियल रंगों का इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी वजह से इसे खाने से सांस लेने में दिक्कत, सिरदर्द, पेटदर्द, पेट में जलन आदि की समस्या हो सकती है।’
  • बारिश में सी-फूड मसलन मछली और प्रॉन्स खाने से परहेज करें। मछली खाने का कर रहा है, तो ताजी मछली खायें।
  • डिब्बाबंद जूस को अपने आहार में शामिल ना करें।
  • कार्बोनेटेड पेय पदार्थों का सेवन ना करें।
  • मानसून सीजन में पाचन क्षमता कमजोर हो जाती है ऐसे में इन शीतल पेय पदार्थां के सेवन से शरीर से मिनरल्स की मात्रा कम होगी, जिसकी वजह से आपको कमजोरी और चक्कर आने की समस्या हो सकती है।
  • हरी पत्तेदार सब्जियों मसलन पालक आदि का इस्तेमाल ना करें।
  •  मानसून सीजन में नॉनवेज ना खायें।