मुंबई का प्रसिद्ध श्री महालक्ष्मी मंदिर कलश स्थापना कार्यक्रम, एवं आरती का समय

प्रतिदिन नवरात्रि में श्रद्धालु लाखों की भीड़ में दर्शन करने के लिए आते हैं। वहीं, ललिता पंचमी, अष्टमी और छुट्टियों पर भक्तों की संख्या तीन लाख तक पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। साथ ही बुजुर्ग, विकलांग और गर्भवती महिलाओं के लिए अलग से कतार की व्यवस्था की गई है।

नवरात्रि आने वाली है और मुंबई के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक, श्री महालक्ष्मी मंदिर, इस त्योहार में देवी दुर्गा का स्वागत और उनके पूजन के लिए तैयार है। यह मंदिर भूलाबाई देसाई रोड पर स्थित है। इस मंदिर को लगभग 16वीं-17वीं शताब्दी के आसपास बनाया गया था। मुख्य रूप से मंदिर लक्ष्मी देवी का है परंतु यह माता काली और माता सरस्वती कि भी अर्चना की जाती है।

प्रतिदिन नवरात्रि में श्रद्धालु लाखों की भीड़ में दर्शन करने के लिए आते हैं। वहीं, ललिता पंचमी, अष्टमी और छुट्टियों पर भक्तों की संख्या तीन लाख तक पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है। साथ ही बुजुर्ग, विकलांग और गर्भवती महिलाओं के लिए अलग से कतार की व्यवस्था की गई है। एवं सभी वीआईपी पास वालों को सुरक्षा व्यवस्था से होकर गुजरना होगा।

महालक्ष्मी शारदीय नवरात्रि 26 सितंबर, 2022 को सोमवार से शुरू हो रहा है और मंदिर में कलश स्थापना प्रातः 5:30 बजे सूर्योदय से पहले किया जाएगा, इसके बाद प्रातः 6.30 बजे ध्वजारोहण और प्रातः 7.00 बजे तक आरती की जाएगी। नवरात्रि पर्व के समय मंदिर प्रातः 5.00 बजे खुल जाएगा और रात्री 10.00 बजे तक बंद हो जाएगा। कुल 62 सीसीटीवी कैमरे मंदिर परिसर और आसपास के स्थान में लगाए गए हैं। साथ ही मंदिर में पुलिस व्यवस्था उपायुक्त एवं सहायक पुलिस आयुक्त नीलकंठ पाटिल, गादेवी थाना, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक दत्ताराम गिरप, अन्य अधिकारी वर्ग के पुलिस कर्मियों, ड्रैगन के संजय मोरेन, राजू निलकजे, अजय सिंह के मार्गदर्शन में किया गया है।