Home लाइफस्टाइल नैसकॉम फाउन्डेशन ने ग्रामीण महिलाओं के लिए लॉन्च किए ‘डिजिवानी’कॉल सेंटर

नैसकॉम फाउन्डेशन ने ग्रामीण महिलाओं के लिए लॉन्च किए ‘डिजिवानी’कॉल सेंटर

वर्तमान में चल रहा Google.org द्वारा समर्थित महिला उद्यमिता एवं सशक्तीकरण प्रोजेक्ट देश के 6 राज्यों के 18 ज़िलों में कैस्केड मॉडल के ज़रिए 20,000 लाभार्थियों और 1200 मास्टर टेªनर्स के लिए संचालित किया जा रहा है। महिला लाभार्थियों की महत्वाकांक्षाओं को बढ़ावा देने के लिए, डिजिवानी कॉल सेंटर की अवधारणा पेश की गई, जो इन लाभार्थियों को ज़रूरी मार्गदर्शन देते हैं, उन्हें विभिन्न सत्रों के माध्यम से अपने कारोबार का पैमाना बढ़ाने में मदद करते हैं। कॉल सेंटरों का इन्फ्रास्ट्राक्चर दिल्ली और लखनऊ में स्थापित किया जा चुका है, जहां कुल 19 महिला काउन्सलर कॉल संेटर का संचालन संभाल रहे हैं। डिजिवानी कॉल सेंटर प्रोजेक्ट मार्च 2023 में समाप्त होगा।

नई दिल्ली। ग्रामीण महिलाओं में उद्यमिता की महत्वाकांक्षाओं को समर्थन प्रदान करने के लिए नैसकॉम फाउन्डेशन ने इंडियन सोसाइटी ऑफ एग्रीबिज़नेस प्रोफेशनल्स (आईएसएपी) के सहयोग से ‘डिजिवानी’ पहल के तहत दो कॉल सेंटरों के उद्घाटन की घोषणा की है। नई दिल्ली और लखनऊ में स्थित ये ‘डिजिवानी’ कॉल सेंटर Google.org द्वारा समर्थित महिला उद्यमिता एवं सशक्तीकरण प्रोग्राम के माध्यम से छह राज्यों- हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश और बिहार के सात ज़िलों में 100,000 ग्रामीण महिलाओं तक पहुंचेंगे और उन्हें फोन आधारित प्रोग्राम के ज़रिए निःशुल्क डिजिटल, वित्तीय एवं उद्यमिता कौशल प्रदान करेंगे। इसके अलावा ये कॉल सेंटर 30,000 महिलाओं को प्रशिक्षित काउन्सलर्स के साथ जोड़ेंगे ताकि ये महिलाएं अपने कौशल का सही उपयोग कर सकें तथा उद्यमिता एवं आय सृजन के अवसर भी उत्पन्न कर सकें।

डिजिवानी सेंटरों का उद्घाटन अन्ना रॉय, सीनियर अडवाइज़र, नीति आयोग द्वारा किया गया, जो कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे। उनके साथ निधी भसीन, सीईओ, नैसकॉम फाउन्डेशन और सपना चड्ढा, वाईस प्रेज़ीडेन्ट, मार्केटिंग, इंडिया एवं साउथ ईस्ट एशिया, गूगल भी मौजूद थे। अन्ना रॉय ने पहला कॉल महिला उद्यमी विनीता कुमारी को किया जो बिहार में अचार एवं मशरूम की खेती का छोटा सा कारोबार उद्यम चलाती हैं। बातचीत के दौरान अन्ना रॉय ने उन्हें सरकारी योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के बारे में बताया जिनके द्वारा उन्हें आजीविका के अवसर बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

डिजिवानी के लॉन्च पर बात करते हुए निधी भसीन, सीईओ, नैसकॉम फाउन्डेशन ने कहा, ‘‘महिलाएं भारत में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। महिला उद्यमियों की क्षमता का लाभ उठाकर 2030 तक उन्हें 150-170 मिलियन नौकरियां उत्पन्न करने में सक्षम बनाया जा सकता है। इस उद्देश्य को हासिल करने के लिए नैसकॉम फाउन्डेशन ने Google.org से सहयोग प्राप्त किया है ताकि महिला उद्यमियों को डिजिटल समाधानों को अपनाने में सक्षम बनाया जा सके और वे डिजिवानी कॉल सेंटरों की मदद से डिजिटल-इनेबल्ड कारोबारों का निर्माण करने में सक्षम हों। हमें खुशी है कि महिलाओं को ज़रूरी सहयोग प्रदान करने और उनके लिए उद्यमिता को आसान बनाने के प्रयास में हमें आईएसएपी के साथ साझेदारी का मौका मिला है; इससे महिला उद्यमियों के कल्याण को प्रयासों को तेज़ किया जा सकेगा, जो देश के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।“

सपना चड्ढा, वाईस प्रेज़ीडेन्ट, मार्केटिंग, गूगल इंडिया एवं साउथ ईस्ट एशिया ने कहा, ‘‘गूगल में हमें सभी के लिए एक समान ज्ञान एवं जानकारी को सुलभ बनाने के लिए प्रयासरत हैं। हम हर तरह से डिजिटल अंतराल को दूर करना चाहते हैं फिर चाहे वह कीमत की बात हो, भोगौलिक या लिंग या अन्य किसी पहलू से जुड़ा मुद्दा हो। तकनीकी बाधाओं के चलते दुनिया भर की तरह भारत की महिलाएं भी अवसरों की दृष्टि से पुरूषों से पीछे हैं। देश भर की 30 मिलियन ग्रामीण महिलाओं तक डिजिटल कौशल पहुंचाने वाले इंटरनेट साथी प्रोग्राम से मिला अनुभव हमें बताता है कि जब महिलाओं को इंटरनेट की सुविधा मिलती है, तब उनके लिए उद्यमिता और विकास के नए मार्ग खुलते हैं। ये परिणाम हमें एक महिला प्लेटफॉर्म के विकास के लिए प्रेरित करते हैं जो देश भर में 1 मिलियन महिला उद्यमियों को कौशल प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध हो।

अन्ना रॉय, सीनियर अडवाइज़र, नीति आयोग ने कहा, ‘‘भारत में बड़ी संख्या में महिलाओं के पास जागरुकता एवं उचित संसाधनों की कमी है, जो अपने उद्यम शुरू करना चाहती हैं। हालांकि अब समय बदल रहा है, उद्योग जगत इन खामियों को समझ रहा है। डिजिवानी इस दिशा में एक बेहतरीन कदम है। जो ग्रामीण महिलाओं को संसाधनों एवं कौशल के साथ सक्षम बनाकर उन्हें सफलता के मार्ग पर आगे बढ़ने में मदद करेगा। नैसकॉम फाउन्डेशन के नेतृत्व में और गूगल के सहयोग से यह पहल देश में महिला उद्यमिता प्रणाली के लिए नया मार्ग प्रशस्त करेगी।’

Exit mobile version