दिल्ली में पटाखों को लेकर सुप्रीम कोर्ट में तत्काल सुनवाई नहीं; कोर्ट ने कहा ‘लोगों को सांस लेने दें, मिठाई पर खर्च करें’

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली में पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध पर तत्काल सुनवाई की मांग वाली याचिका को पलटते हुए कहा, “लोगों को स्वच्छ हवा में सांस लेने दें ... अपना पैसा मिठाई पर खर्च करें”।

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को भाजपा सांसद मनोज तिवारी की उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें दिल्ली में पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध को चुनौती देने वाली याचिका पर तत्काल सुनवाई की मांग की गई थी।

जिसके बाद कोर्ट ने कहा कि “लोगों को स्वच्छ हवा में सांस लेने दें… अपना पैसा मिठाई पर खर्च करें।“

इससे पहले दिन में, दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति के सभी प्रकार के पटाखों की बिक्री और उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध को चुनौती देने वाली एक याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पटाखों से संबंधित मुद्दों की पेंडेंसी का हवाला दिया गया था।

बता दें कि याचिकाकर्ताओं ने याचिका में कहा था कि डीपीसीसी द्वारा 14 सितंबर को लगाया गया “अंतिम समय का प्रतिबंध” मनमाना और अवैध था, और उनकी आजीविका पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है।

वहीं एक दिन पहले, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी में पटाखों का निर्माण, भंडारण और बिक्री एक दंडनीय अपराध है और इसके लिए 5,000 रुपये तक का जुर्माना और तीन साल की जेल हो सकती है।