Home मनोरंजन पंकज उधास ने कर दिया उदास 

पंकज उधास ने कर दिया उदास 

मुम्बई में आखिरी सांस ली और संगीत प्रेमियों को उदास कर पंकज उधास गये ।

नई दिल्ली। ग़ज़ल गायक जगजीत सिंह के बाद पंकज उधास ने भी ग़ज़ल प्रेमियों को उदास कर दिया । कल उन्हें भगवान् की ओर से चिट्ठी आई ओर वे चले गये । जिसने भी इस गाने को सुना था, वही चिट्ठी आने को सुनते ही रोने लगता था और इसे सुनकर तो शो मैन राजकपूर भी रोना रोक नहीं पाये थे और उन्होंने अपने मित्र राजेन्द्र कुमार को कहा था कि यह हिट होने जा रहा है और हिट हुआ ! यह पंकज उधास की आवाज़ का जादू था ! बचपन में लता मंगेशकर के गाये ‘ ऐ मेरे वतन के लोगो‌’ गाकर इक्यावन रुपये का इनाम जीतने वाले पंकज उधास ने संगीत की किशोर कुमार की तरह विधिवत शिक्षा नहीं ली थी लेकिन अभ्यास और मेहनत ने उन्हें एक ऐसा गायक बना दिया, जिसे भूल‌ पाना आसान नहीं ।  पद्मश्री भी इनको मिली। मुम्बई में आखिरी सांस ली और संगीत प्रेमियों को उदास कर गये । किशोर कुमार या पंकज उधास बनना इतना आसान नहीं, जितना लग रहा है । फिर भी पंकज उधास को अपने साथ लगाये टैग से गिला रहा कि उन्होंने शराब पर तो कम ही गाने गाये लेकिन उन्हें ऐसे गीतों के सिंगर का टैग क्यों दे दिया गया ? यह मुम्बई नगरी ऐसा ही सबके साथ करती आई है और करती रहेगी । यह अपने तौर तरीके बदलती नहीं दिख रही । गीतकार समीर‌ ने बड़े प्यार से पंकज उधास को याद करते बताया कि उनमें ज़रा भी एटिट्युड नहीं था और इसीलिए वे संगीतकारों की पसंद‌ बने रहे ।

 

Exit mobile version