प्रधानमंत्री और अन्य केंद्रीय मंत्रियों ने ब्रॉडबैंड उपग्रहों के सफल लॉन्च पर इसरो को दी बधाई

ISRO LVM-3 Mission: यह इसरो के सबसे भारी रॉकेट के लिए पहला कमर्शियल मिशन है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को इसरो, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड और IN-SPACe को बधाई दी है। बता दें कि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी के सबसे भारी रॉकेट ने अपने पहले कमर्शियल मिशन पर यूके के एक ग्राहक के 36 ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को इच्छित कक्षाओं में सफलतापूर्वक स्थापित किया है।

कहा जाता है कि रॉकेट 8,000 किलोग्राम से अधिक वजन ले जाने में सक्षम है लेकीन यह पहला मौका था जब पेलोड छह टन तक था। यह LVM3 का पहला कमर्शियल मिशन भी है, जिसे अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा “हिस्टोरिक माइलस्टोन” के रूप में परिभाषित किया गया है। इसरो की वाणिज्यिक शाखा, न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड ने परियोजना के लिए यूनाइटेड किंगडम स्थित वनवेब के साथ कॉन्ट्रैक्ट किया है और पहले चरण में 36 संचार उपग्रह लॉन्च किए गए हैं। जबकि NSIL के लिए, यह पहली बार है कि LVM3 का उपयोग किया गया है, यह पहला-बहु उपग्रह मिशन भी होता है।

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस लॉन्च को भारत की बढ़ती आत्मनिर्भरता से जोड़ा है।

उन्होंने आगे कहा “वैश्विक कनेक्टिविटी के लिए बने 36 वनवेब उपग्रहों के साथ हमारे सबसे भारी प्रक्षेपण यान LVM3 के सफल प्रक्षेपण पर @NSIL_India @INSPACeIND @ISRO को बधाई।‘

साथ ही कई केंद्रीय मंत्रियों ने भी बधाई देते हुए ट्वीट किए हैं। वहीं नितिन गडकरी ने इसे “भारत के लिए गर्व का क्षण” कहा। जबकि किरेन रिजिजू ने इसे एक आदर्श दिवाली उपहार बताया है।