लोन में धोखाधड़ी मामले में पुलिस ने सीए को दिल्ली से किया गिरफ्तार

ओडिशा पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पंजाब नेशनल बैंक के लॉन से संबंधित धोखाधड़ी मामले में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में नई दिल्ली के चार्टर्ड एकाउंटेंट नीरज कुमार को गिरफ्तार किया है।

समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार, ओडिशा पुलिस की इकनॉमिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने पंजाब नेशनल बैंक ऋण धोखाधड़ी मामले में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में नई दिल्ली के एक चार्टर्ड एकाउंटेंट नीरज कुमार को गिरफ्तार किया है।

ईओडब्ल्यू अधिकारियों के अनुसार, पंजाब नेशनल बैंक, भुवनेश्वर के सर्कल हेड परेश कुमार दास ने आरोपी काली प्रसाद मिश्रा, मेसर्स केपी सॉल्यूशंस के मालिक और अन्य के खिलाफ एक लिखित शिकायत दर्ज करवाई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि आरोपी व्यक्ति ने नकद क्रेडिट (सीसी) का लाभ उठाया था। आईएएनएस की रिपोर्ट में बताया गया है कि 24 अक्टूबर 2017 को बापूजी नगर शाखा से जाली दस्तावेजों का उपयोग करके यह लाभ उठाया गया था।

बता दें कि आरोपियों ने जमीन मालिकों की जानकारी के बिना कई अन्य नामों के तहत संपार्श्विक सुरक्षा के रूप में संपत्तियों को भी गिरवी रखा था। पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि नीरज कुमार पीएनबी में साल 2013 से 2016 के दौरान शहीद नगर शाखा भुवनेश्वर में प्रबंधक के रूप में तथा एक अन्य आरोपी बीरेंद्र कुमार पटनायक इस दौरान उसी शाखा में मुख्य प्रबंधक के रूप में कार्यरत था।

आईएएनएस की रिपोर्ट में बताया गया है कि नीरज ने 2016 में पीएनबी से इस्तीफा दे दिया था, लेकिन बैंक अधिकारी के रूप में बापूजी नगर शाखा में बैठना जारी रखा और सक्रिय रूप से करोड़ों के ऋण की सुविधा और व्यवस्था में लगे रहे।

अधिकारियों के अनुसार न्यायिक हिरासत में बंद एक अन्य आरोपी प्रकाश कुमार बेहरा के साथ मिलकर, नीरज और अन्य बैंक अधिकारियों ने जाली दस्तावेजों और प्रतिरूपण के आधार पर ऋण की मंजूरी की सुविधा प्रदान की थी, और इस तरह बैंक को करोड़ों का गलत नुकसान हुआ था।