Home मनोरंजन आखिर क्यों चॉल छोड़ रही हैं प्रार्थना?

आखिर क्यों चॉल छोड़ रही हैं प्रार्थना?

सोनी सब के शो ‘पुष्पा इम्पॉसिबल’ में प्रार्थना अपने दुर्घटना के सदमे से उबरने के लिए चॉल छोड़ने को तैयार है। पूरी कहानी देखें हर सोमवार से शनिवार रात 9:30 बजे, केवल सोनी सब पर।

नई दिल्ली। सोनी सब का ‘पुष्पा इम्पॉसिबल’ एक दृढ़संकल्पित महिला पुष्पा (करुणा पांडे) की दिल छू लेने वाली कहानी बताता है, जो बिना उम्मीद खोए जीवन की चुनौतियों का सामना करती है। हालिया एपिसोड्स में, दर्शकों ने देखा कि बापोदरा चॉल के सदस्य अश्विन (नवीन पंडिता) के सबसे अच्छे दोस्त भास्कर (विक्रम मेहता) को खोने के गम से उबर रहे हैं। आगामी एपिसोड्स में, तनाव बढ़ जाता है क्योंकि मीडिया में प्रार्थना के मामले पर विधायक पाटिल (शारुख सदरी) और बापोदरा (जयेश भरभाया) की बातचीत की रिकॉर्डिंग लीक हो जाती है, जिस पर अपनी कार से भास्कर की बाइक को टक्कर मारने का आरोप लगाया गया है। मीडिया पुष्पा के परिवार पर बरसता है और मांग करता है कि बापोदरा और प्रार्थना एक प्रेस कॉन्फ्रेंस दें।

हालांकि, प्रार्थना कॉन्फ्रेंस में सुन्न पड़ जाती है और कुछ भी नहीं बोल पाती है। उस वक्त उसका पति चिराग (दर्शन गुर्जर) उसके समर्थन के लिए सामने आता है। प्रार्थना अपराधबोध से ग्रस्त है क्योंकि भास्कर की पत्नी आशावरी (मानसी जैन) ने उसे माफ नहीं किया है। अपने दिल पर अपराध बोध की चट्टान रखकर, पुष्पा ने उसे चिराग के बिना जूनागढ़ में उसके अंकल के घर भेजने का फैसला किया, ताकि वह अपने सदमे से उबर सकें।

प्रार्थना की भूमिका निभाने वाली इंद्राक्षी कांजीलाल ने कहा, “जो कुछ भी हुआ उसके बाद प्रार्थना को मुश्किल दौर से गुज़रना पड़ रहा है। वह दुर्घटना के बाद भास्कर की मौत के लिए अपराधबोध महसूस करती है और सोचती है कि हर कोई उसके आसपास रहने से परेशान है। इसलिए, वह कुछ समय के लिए कहीं और जाने का फैसला करती है और पुष्पा के जूनागढ़ जाने के विचार से सहमत होती है। वह अकेली नहीं रहना चाहती और इसलिए चाहती है कि उसका पति भी वहां जाए, हालांकि, उसकी सास पुष्पा तय करती है कि उसका अकेले जाना ही समझदारी भरा फैसला होगा। भले ही इससे प्रार्थना नाराज हो गई है, फिर भी वह आगे बढ़ने का फैसला करती है क्योंकि वह जानती है कि इससे सभी को मदद मिलेगी, जिसमें वह खुद भी शामिल है। यह मुश्किल निर्णय है, लेकिन उसे उम्मीद है कि इससे सबका भला होगा।”

Exit mobile version