Presidential Elections: क्या फिर एक बार भारत को मिलने जा रहा है मुस्लिम राष्ट्रपति? जानिए कौनसे मुस्लिम नेताओं के नाम हैं चर्चा में

चुनाव आयोग के द्वारा चुनाव की तारीख 18 जुलाई घोषित कर दी गई है। हालांकि बीजेपी ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया है परंतु इतिहास को देखें तो राष्ट्रपति के नाम की घोषणा के फैसले बीजेपी ने इतिहास में भी हैरान कर देने वाले ही लिए हैं। आईए जानते हैं किन नामों के लगाए जा रहे हैं कयास-

दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव की तारीख की घोषणा होने के साथ ही अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हुई हैं कि देश के पहले नागरिक के इस पद के लिए बीजेपी अपना उम्मीदवार किसे बनाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस पद के लिए अगर विपक्षी दल अपना उम्मीदवार उतारेंगे और अगर चुनाव हुआ तो बीजेपी अपने सहयोगियों के समर्थन के साथ फिलहाल अच्छी स्थिति में नजर आ रही है। बता दें कि चुनाव आयोग के द्वारा चुनाव की तारीख 18 जुलाई घोषित कर दी गई है। हालांकि बीजेपी ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया है परंतु इतिहास को देखें तो राष्ट्रपति के नाम की घोषणा के फैसले बीजेपी ने इतिहास में भी हैरान कर देने वाले ही लिए हैं। यह भी देखा गया है कि मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार इस दौड़ में जिन नेताओं का नाम सामने आता था वे दूर-दूर तक भी रेस में दिखाई नहीं देते थे।

वहीं बीजेपी ने जब भी उम्मीदवारों का ऐलान किया है तो उसने उम्मीदवारों के ऐलान के साथ हर बार जातियों को साधने के प्रयास किए हैं और हर बार मास्टर स्ट्रोक खेलने की कोशिश भी की है। बात इस बार की करें तो जिस तरह से देशभर धार्मिक समीकरण खराब चल रहे हैं उन को देखते हुए ऐसा कहा जा रहा है कि भाजपा इस बार किसी मुस्लिम नेता को राष्ट्रपति का उम्मीदवार बनाएगी।

कौनसे मुस्लिम नाम हैं चर्चा में ?

आईए जानते हैं कौनसे मुस्लिम नेता हैं जो इस दौड़ में आगे चल रहे हैं –

आरिफ मोहम्मद ख़ान-राष्ट्रपति पद के लिए मुस्लिम उम्मीदवारों में पहला नाम आरिफ मोहम्मद खान का चल रहा है। आरिफ मोहम्मद वर्तमान में केरल के गवर्नर है और इन्हें प्रोग्रेसिव मुस्लिम नेताओं में गिना जाता है।

मुख्तार अब्बास नकवी- दूसरे नाम की बात करें तो मुख्तार अब्बास नकवी का नाम मुख्य रूप से सामने आ रहा है। अब्बास नक्वी भाजपा के पुराने नेता भी रह चुके हैं और इन्हें भी प्रोग्रेसिव मुस्लिम नेताओं में गिना जाता है। ऐसे में कुछ लोगों का यह भी कहना है कि भाजपा नकवी के नाम का ऐलान राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में कर सकती है।

कई बार अपने फैसलों से चौंका चुकी है भाजपा

राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में किसी की घोषणा करते समय भाजपा इतिहास में कई बार चौंकाने वाले फैसले ले चुकी है। राष्ट्रपति के रूप में कोविन्द के चयन की उम्मीद किसी ने नहीं की थी लेकिन उस समय वंचित और पिछड़े वर्ग के लोगों का दिल जीतने के लिए बीजेपी ने गोविंद का नाम आगे बढ़ाया था। इसके साथ ही उपराष्ट्रपति पद के लिए वेंकैया नायडू के नाम की किसी ने उम्मीद नहीं की थी लेकिन नायडू का नाम सामने लाकर भी बीजेपी ने लोगों को हैरान कर दिया था।