Home राष्ट्रीय मीडियाकर्मियों की समस्याओं का निराकरण कराया जाएगा : अजय प्रताप सिंह

मीडियाकर्मियों की समस्याओं का निराकरण कराया जाएगा : अजय प्रताप सिंह

एनयूजे उपाध्यक्ष और जर्नलिस्ट्स यूनियन ऑफ मध्यप्रदेश के महासचिव प्रदीप तिवारी ने बताया कि आगामी 6,7 और 8 नवंबर को भोपाल संगठन के राष्ट्रीय अधिवेशन का आयोजन जाएगा। अधिवेशन में देशभर के पांच से ज्यादा पत्रकार हिस्सा लेंगे। अधिवेशन में मीडिया जगत की विभिन्न समस्याओं को लेकर विचार-विमर्श किया जाएगा। अधिवेशन में केंद्र और राज्य सरकार के मंत्रियों को आमंत्रित किया गया है।

नई दिल्ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य श्री अजय प्रताप सिंह ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार की जनकल्याण योजनाओं से देश में क्रांतिकारी परिवर्तन हुआ है। आत्मनिर्भर भारत से देश में रोजगार बढ़ा है। देश आर्थिक मोर्च पर लगातार मजबूत हो रहा है। उन्होंने कहा कि मीडिया को केंद्र और भाजपा शासित राज्यों की गरीबों के कल्याण के लिए चल रही योजनाओं की जानकारी देने के लिए तेजी से कार्य करना चाहिए।
नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) के मुख्यालय में आयोजित मीडिया से भेंट कार्यक्रम में श्री अजय प्रताप सिंह ने मीडियाकर्मियों की समस्याओं पर भी बातचीत की। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की सरकार बहुत बढ़िया काम कर रही हैं। अगले विधानसभा चुनाव में फिर से भाजपा की सरकार बनेगी।
कार्यक्रम की शुरुआत में समाजवादी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव को श्रद्धांजलि दी गई। एनयूजे अध्यक्ष रास बिहारी ने श्री यादव को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उनका मीडिया कर्मियों के प्रति व्यवहार हमेशा उदार रहा।
राज्यसभा सदस्य श्री सिंह ने कहा कि मीडिया कर्मियों की समस्याओं को लेकर संबधित मंत्रालयों से बातचीत करेंगे। एनयूजे अध्यक्ष रास बिहारी, महासचिव प्रसन्ना महंती, उपाध्यक्ष और राज एक्सप्रेस के संपादक प्रदीप तिवारी, एंकर संसद टीवी मनोज वर्मा, हिन्दुस्थान समाचार के एसोसिएट संपादक दधिबल यादव, खेल टुडे के संपादक राकेश थपलियाल, दैनिक भास्कर के राजनीतिक संपादक के पी मलिक, खेल टुडे के सलाहकार अशोक किंकर, जनसत्ता के अमलेश राजू, गोपीनाथ, पब्लिक एशिया के प्रधान संपादक मुकेश वत्स, अनुराग पुनैठा, अतुल मिश्र, राजेश भसीन, एनयूजे बिहार के संयोजक रणजीत तिवारी, हीरेंद्र राठौड़ आदि ने इस अवसर पर विचार व्यक्त किए।

Exit mobile version