Home क्राइम Rajasthan News : नृशंस हत्या के बाद उदयपुर में जारी है तनाव

Rajasthan News : नृशंस हत्या के बाद उदयपुर में जारी है तनाव

राजस्थान के मुख्य सचिव ने प्रदेशभर में आगामी 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद किए जाने, सभी ज़िलों में आगामी एक माह तक धारा 144 लागू करने के निर्देश जारी किए हैं।

उदयपुर। भाजपा नेत्री नुपुर शर्मा का समर्थन किया और कट्टरपंथियों ने एक व्यक्ति की नृशंस हत्या कर दी। उदयपुर के रहने वाले टेलर कन्हैयालाल का सिर काटने वाला दो मुस्लिम युवकों को पुलिस ने भले ही गिरफ्तार कर लिया हो, लेकिन पूरे इलाके में तनाव बना हुआ है। पुलिस प्रशासन की ओर से इंटरनेट सेवा बंद करने सहित कई प्रकार की पाबंदियां लगाई गई है। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लोगों से शांति एवं सौहार्द्र बनाए रखने की अपील की है।

उदयपुर से सुबह के दृश्य जहां कन्हैया लाल की हत्या के मद्देनजर धारा 144 लागू कर दी गई है। कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए, राज्य भर में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है और अगले एक महीने के लिए सभी ज़िलों में धारा 144 लागू कर दी गई है।

बता दें कि राजस्थान के उदयपुर में एक व्यक्ति की हत्या होने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एक टीम को उदयपुर के लिए रवाना किया गया है। उदयपुर में हुई हत्या की घटना पर हिंगलाजदान, आईजी, उदयपुर रेंज ने कहा कि कन्हैया लाल की हत्या हुई है, इस मामले में दोनों आरोपियों को पकड़ा जा चुका है। शहर में कानून व्यवस्था को देखते हुए कर्फ्यू लगाया गया है। स्थिति नियंत्रण में है। पुलिस अपना काम कर रही है।

राजस्थान की पूर्व CM और BJP नेता वसुंधरा राजे ने कहा कि उदयपुर में एक निर्दोष युवक की निर्मम हत्या से यह स्पष्ट हो गया है कि राज्य सरकार की शह और तुष्टिकरण के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। राज्य सरकार की इसी नीति के कारण प्रदेश में सांप्रदायिक उन्माद और हिंसा की स्थिति उत्पन्न हुई है। इस घटना के पीछे जिन लोगों और संगठनों का हाथ है उन्हें बेनकाब कर तुरंत गिरफ़्तार किया जाए।

उदयपुर में हत्या की घटना पर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने ट्वीट किया, “एक के बाद एक वीभत्स घटनाओं से संकेत मिलता है कि कांग्रेस ने राजनीतिक लाभ के लिए राज्य को ‘जंगल राज’ में बदल दिया है।”

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने उदयपुर की हत्या की घटना की निंदा करते हुए कहा कि यह घटना इस्लाम और देश के कानून के खिलाफ है।

Exit mobile version