Home ओपिनियन सलाम अर्जेंटीना, सलाम फुटबॉल

सलाम अर्जेंटीना, सलाम फुटबॉल

ये भावनात्मक क्षण है। मुझे उम्मीद है कि ये मेस्सी का आखिरी विश्व कप नहीं है, मैं मेस्सी को अर्जेंटीना के लिए और अधिक खेलते देखना चाहता हूं: अर्जेंटीना के राजदूत एचजे गोब्बी

अविश्ववसनीय,लाजवाब, ऐतिहासिक। 36 साल बाद जो हुआ वह 100 सालों तक याद किया जाएगा।यह मैंच विश्व फुटबॉल की गरिमा के अनुरूप था। जिस जादू को पूरे विश्वकप में देखने की लालसा थी अंततः वह जादू देखने को मिला। फ्रान्स की टीम से जिस खेल की उम्मीद थी दूसरे हाफ के अंतिम पलों में वह अचानक नजर आने लगा मानो ईश्वर ने पैवेलियन में लगातार खड़े होकर बेचैनी के साथ टहल रहे राष्ट्रपति मैकरान की प्रार्थना सुन ली हो। फ्रांस ने शानदार खेला लेकिन पूरे मैच में अर्जेंटीना भारी रही। अंततः पेनाल्टी शूट आउट में भी किस्मत ने अर्जेंटीना का ही साथ दिया। फिर से कहूंगा गोल किस्मत है, खेल, खेल।

अर्जेंटीना में हर 10 में से 4 लोग गरीबी की रेखा के नीचे जीवनयापन करते हैं। 14 साल से कम उम्र के आधे बच्चे गरीबी में जीवनयापन करते हैं मगर अर्जेंटीना आज दुनिया की सबसे महान टीम है। आज गरीबी ने अमीरी को पराजित कर दिया। कोई भी देश ऐसी जीत से जुड़ता है, लोगों में आपसी प्यार बढ़ता है।

यह खबर सबको नहीं पता होगी उधर अर्जेंटीना फाइनल में पहुंची उधर वहां के राष्ट्रपति अल्बर्टो फर्नांडिस ने डेनमार्क और भारत से फाइटर जेट का सौदा रद्द कर दिया। उन्होंने कहा कि यह शांति का दौर है मेरे देश की दूसरी जरूरतें हैं। आज यह सरोकार भी जीता है।आज प्रेजिडेंट फर्नांडिस ने अर्जेंटीना में अपने घर मे बैठकर मैच देखा। उन्होंने कहा कि हमारा सर्वश्रेष्ठ मैदान में है हम अपने देश के नागरिकों के साथ देश मे बैठकर यह आलम देखेंगे। आज सारी रात अर्जेंटीना जागेगा।

Exit mobile version