Home पॉलिटिक्स कांग्रेस के घोषणात्र में मुस्लिम तुष्टीकरण का छाया मुद्दा

कांग्रेस के घोषणात्र में मुस्लिम तुष्टीकरण का छाया मुद्दा

 

नई दिल्ली। कांग्रेस के घोषणा पत्र पर सियासत तेज होता दिखाई दे रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भाजपा के तमाम नेता जहां घोषणा पत्र को लेकर कांग्रेस पर निशाना साध रहे हैं तो वहीं अब कांग्रेस की ओर से पलटवार किया गया है। कांग्रेस सांसद जयराम रमेश ने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने जिन्ना की मुस्लिम लीग से समझौता किया। कांग्रेस ने कभी कोई समझौता नहीं किया। उन्होंने कहा कि लालकृष्ण आडवाणी और जसवन्त सिंह ने पाकिस्तान जाकर जिन्ना की तारीफ की। किसी कांग्रेसी नेता ने ऐसा नहीं किया। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में रैली में बोलते हुए, पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस का घोषणापत्र “पूरी तरह से मुस्लिम लीग की छाप रखता है”।

जयराम रमेश ने कहा कि कांग्रेस पार्टी किसान न्याय, महिला न्याय, युवा न्याय, श्रमिक न्याय गारंटी कार्ड लेकर आठ करोड़ घरों में जा रही है। हमारे कार्यकर्ता और नेता आठ करोड़ परिवारों तक पहुंच रहे हैं। ये हैं देश के असली मुद्दे, महिलाएं, किसान, युवा, मजदूर, वंचित लोग, पिछड़े वर्ग के लोग, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जाति, ये वो मुद्दे हैं जो 2024 में मायने रखते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कभी भी जनता के बारे में बात नहीं करते हैं, वह जनता के मुद्दे, किसानों के मुद्दे, युवाओं के मुद्दे, महिलाओं के मुद्दे, श्रमिकों के मुद्दे से ध्यान भटकाना चाहते हैं, जो 10 साल के अन्याय की सच्चाई है।

मोदी पर वार करते हुए रमेश ने कहा कि उन्होंने चीन को क्लीन चिट दे दी और उसी क्लीन चिट के कारण आज हम कमजोर हो गए हैं। प्रधानमंत्री कहते हैं कि कांग्रेस ने मुस्लिम लीग की नीति अपनाई, मैं प्रधानमंत्री को याद दिला दूं कि 1940, 1941 और 42 में बंगाल में कौन सा व्यक्ति, कौन सी मुस्लिम पार्टी मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन सरकार में थी। उन्होंने कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जो जनसंघ के संस्थापक थे, हिंदू महासभा के अध्यक्ष थे और उन्होंने मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन सरकार बनाई थी। बंगाल, सिंध और उत्तर-पश्चिम सीमांत प्रांत में हिंदू महासभा और मुस्लिम लीग के बीच गठबंधन था। आज अगर हम कांग्रेस की बात करें तो वह हमेशा विभाजनकारी राजनीति अपनाती है और प्रधानमंत्री किसी भी मुद्दे पर सामाजिक ध्रुवीकरण को बढ़ावा देने के लिए तैयार रहते हैं।

वहीं, भाजपा प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस का असली चेहरा कुछ और नहीं बल्कि मुस्लिम लीग का छिपा हुआ एजेंडा है। यहां तक ​​कि अपने घोषणापत्र में भी उन्होंने उल्लेख किया है कि वे व्यक्तिगत कानूनों को बनाए रखने की कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा कि इसका मतलब है कि वे सभी को राष्ट्रीय मुख्यधारा में लाने के बजाय, उन्हें एक अलगाववादी पहचान देने की ओर अधिक झुकाव है, जहां उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय की खान-पान की आदतों को बनाए रखने का उल्लेख किया है, मैं उनसे पूछना चाहता हूं- उन्होंने जैन समुदाय के लिए अब तक क्या किया है- जो सबसे अधिक शाकाहारी हैं। उन्होंने कहा कि वे अल्पसंख्यकों में विश्वास नहीं करते।

 

Exit mobile version