कोरोना की बढ़ती रफ़्तार ने बढ़ाया डर,केंद्र सरकार ने कोरोना प्रभावी राज्यों को लिखा पत्र

पिछले चार महीनों में शुक्रवार को सबसे ज्यादा मामले देखने को मिले हैं। शुरूआती दौर के बाद भारत में अब तक 43 मिलियन से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और 5 लाख 24 हज़ार 651 लोगों की मौत हो चुकी है।

कोरोना की बढ़ती रफ़्तार फिर डराने लगी है। देश में कोरोना के सक्रीय मामलों में हर रोज इज़ाफ़ा हो रहा है। परसों की तुलना में कल 3,495 मामलों की बढ़ोतरी हुई है और अब यह आंकड़ा 91,779 तक पंहुच गया है। देश में महाराष्ट्र हो या दिल्ली हर जगह कोरोना एक बार फिर रफ़्तार पकड़ चुका है।

25 जून 2022 के केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान देश में 11,739 मामले सामने आए, जबकि इससे पहले 25 जून को 15,940  नए मामले सामने आए थे, जबकि 24 जून को 17,336 नए मामले सामने आए थे। 25 जून की सुबह आठ बजे केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान देश में 15,940 मामले सामने आए थे , जबकि इससे पहले 24 जून को 17,336 नए मामले सामने आए थे,और 23 जून को 13,313 नए मामले सामने आए थे।

हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो जून के अंतिम सप्ताह से चौथी लहर का अंदेशा जताया जा रहा है। इस दौरान पिछले चार महीनों में शुक्रवार को सबसे ज्यादा मामले देखने को मिले हैं। शुरूआती दौर के बाद भारत में अब तक 43 मिलियन से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और 5 लाख 24 हज़ार 651 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि इस दौरान अच्छी बात यह है कि वैक्सीनेशन के कारण लोगों को अस्पताल में कम भर्ती होना पड़ रहा है। परंतु फिर भी हर दिन के बढ़ते मामले अस्पताल में बेड भरने लगे हैं।

केंद्र सरकार ने कोरोना प्रभावी राज्यों को पत्र लिखा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को लिखा पत्र कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार भी सतर्क है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से राज्य सरकारों को इस संबंध में पत्र लिखा गया है। अपने पत्र में स्वास्थ्य मंत्रालय ने मुख्य रूप से पांच राज्यों महाराष्ट्र, केरल, तेलंगाना, कर्नाटक और तमिलनाडु में बढ़ती संक्रमण दर पर रोक लगाने के लिए ऐहतियाती कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इन राज्यों को सख्त निगरानी रखने के लिए कहा है।