Toothbrush Day: आज है टूथब्रश डे, क्‍या आप जानते हैं क्यों मनाया गया था पहला टूथब्रश डे ?

26 जून को टूथब्रश डे मनाया जाता है। चीन के सम्राट ने सबसे पहले 1498 में ब्रश बनाया था। अधिकांश इतिहासकार इस बात से सहमत हैं कि प्राचीन बेबीलोनियों और मिस्रवासियों ने 3500-3000 ईसा पूर्व के बीच भुरभुरी टहनियों से पहला 'टूथब्रश' बनाया था।

सुबह उठते ही ब्रश करना हमारी दिनचर्या में शामिल है। बचपन से ही हमें सुबह उठकर ब्रश करना सिखाया जाता है।इसमें एक छोटा सा ब्रश होता है जिसमें पकड़ने के लिये हत्था लगा रहता है। कहा जाता है कि शरीर के हर हिस्से की साफ़-सफाई और देखभाल की जानी चाहिए। वहीं हमारे ही शरीर का एक अहम हिस्सा है ‘दांत’। जिसको लेकर अक्सर हम सब लापरवाही बरतते हैं और आगे चलकर इसकी वज़ह से हमें परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसलिए हमें अपने दांतों का भी बेहद ख्याल रखना चाहिए। वहीं सबसे जरुरी है कि जब हम अपने दांतों को साफ़ करने के लिए ब्रश का इस्तेमाल करते हैं तो इस बात का ध्यान जरूर रखना चाहिए कि हम जो ब्रश इस्तेमाल कर रहें हैं वो हमारे लिए सही है या नहीं।

कब आया टूथब्रश

26 जून को टूथब्रश डे मनाया जाता है। चीन के सम्राट ने सबसे पहले 1498 में ब्रश बनाया था। अधिकांश इतिहासकार इस बात से सहमत हैं कि प्राचीन बेबीलोनियों और मिस्रवासियों ने 3500-3000 ईसा पूर्व के बीच भुरभुरी टहनियों से पहला ‘टूथब्रश’ बनाया था। वो लोग पेड़ों की टहनियों से ब्रश बनाते थे तथा टहनी के कोने में बालों का प्रयोग करते थे और उससे दांत साफ करते थे।

टूथब्रश अपडेट होकर हो चुका है इलेक्ट्रिक टूथब्रश

सबसे पहले टूथब्रश सुअर के बालों से बनाया गया था। सेलयूलाइड लॉयड प्‍लास्टिक ब्रश हैंडल सबसे पहले वर्ल्‍ड वॉर के बाद नजर आए थे। इससे पहले भारत सहित दुनिया में आमतौर पर दातून का उपयोग किया जाता था। साल 1938 में जानवरों के बालों की बजाय नाइलोन के ब्रिस्‍टल इस्‍तेमाल होने लगे थे। वहीं एक सर्वे में लोगों ने कहा कि वो टूथब्रश के बिना जीवन की कल्‍पना भी नहीं कर सकते हैं। बता दें कि साल 1939 में सबसे पहला स्विस इलेक्ट्रिक टूथब्रश आया था लेकिन इसे बड़ी कामयाबी साल 1961 में मिल पाई थी।