पंकज त्रिपाठी ने कहा ‘मेरे पास प्रवचन बहुत हैं’,साथ ही जानिए ‘शेरदिल’ फिल्म की क्या है कहानी ?

शेरदिल: द पीलीभीत में गरीबी के साथ मानव और जानवरों के टकराव को भी कहानी में पिरोया गया है। वहीं सरकारी उपेक्षा के शिकार लोगों की व्‍यथा को भी इस फ़िल्म में दिखाने की कोशिश की गई है।

पंकज त्रिपाठी श्रीजीत मुखर्जी द्वारा निर्देशित अपनी नवीनतम फिल्म में ‘शेरदिल’ बने हैं। वहीं इस दौरान अभिनेता ने एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में फिल्म के बारे में बात की। आईए जानते हैं पंकज त्रिपाठी की इस नई फ़िल्म के बारे में-

हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में सादगी और मनोरंजन के लिए जाने जाने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी ने कहा है कि “मेरे पास ज्ञान बहुत है, मैं 5 मिनट में दुनिया बदल सकता हूं …।” ज़ी समूह के साथ हुए इस इंटरव्यू में, अभिनेता बीते समय में किए गए संघर्ष के लिए आभारी होने की बात करते नजर आए हैं। उनका कहना है कि उनके संघर्ष की वजह से ही उनके लिए फिल्में लिखी जाती हैं। हालांकि, ओटीटी किंग होने के बाद और राष्ट्रीय पुरस्कार, आईफा सहित कई अन्य पुरस्कार प्राप्त करने के बाद, उनका कहना है कि अब वह केवल आराम करना और परेशानी मुक्त जीवन जीना चाहते हैं। उन्होंने कहा “8 घंटे की नींद और योग … अब मुझे बस यही करना है।”

इस इंटरव्यू में मुख्य रूप से देखा जा सकता है कि कैसे संघर्ष और उपलब्धियां किसी व्यक्ति को जीवन में विनम्र बनाती हैं और किस तरह से शांति से सोने में सक्षम होना अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।

क्या है इस फ़िल्म की कहानी ?

शेरदिल: द पीलीभीत में गरीबी के साथ मानव और जानवरों के टकराव को भी कहानी में पिरोया गया है। वहीं सरकारी उपेक्षा के शिकार लोगों की व्‍यथा को भी इस फ़िल्म में दिखाने की कोशिश की गई है। वहीं फिल्‍म का भार दारोमदार पंकज त्रिपाठी के कंधों पर नज़र आता है। कमजोर पटकथा और निर्देशन के बावजूद भी पंकज ने अपने अभिनय से उसे बेहतर ढंग से साधने की कोशिश की है। वहीं फिल्म में नीरज काबी भी मंझे हुए अभिनेता हैं। दोनों कलाकारों की बातचीत से कुछ दृश्‍य काफी रोचक भी बन गए हैं।