लोगों की लापरवाही ही बुलाएगी कोरोना की तीसरी लहर को : लव अग्रवाल

जरूरी नहीं है, तो घर से बाहर नहीं निकलें। अनावश्यक यात्रा को टाला जा सकता है। दोस्तों-रिश्तेदारों से कुछ दिन बाद भी मिल सकते हैं। अभी ऑनलाइन संपर्क अधिक जरूरी है। संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताएं हैं कुछ टिप्स

नई दिल्ली। हर कोई कोरोना की तीसरी लहर की शंका से चिंतित है। अधिकतर लोग यह सवाल कर रहे हैं कि तीसरी लहर कब आएगी ? केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल का कहना है कि हमारी और आपकी लापरवाही से ही कोरोना की तीसरी लहर आएगी। त्यौहारों का मौसम शुरू हो चुका है। बाजारों में भीड़ देखी जा रही है। स्कूल-कॉलेज खोल दिए गए हैं। हमारे स्वास्थ्य विशेषज्ञ बार-बार अनुरोध करते हैं कि मास्क लगाए। बहुत आवश्यक होने पर ही भीड़ भाड़ वाले इलाके में जाए। अधिक जरूरी नहीं होता तो यात्रा को टाल दें। यदि इन सब बातों का पालन नहीं किया गया, तो कोरोना की तीसरी लहर कभी भी आ सकती है।
संयुक्त सचिव लव अग्रवाल शुक्रवार को देश के तमाम रेडियो कार्यक्रम प्रस्तोता और रेडियो जोकी से बात कर रहे थे। इसी कार्यक्रम में एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि हमारी लापरवाही ही कोरोना की तीसरी लहर को बुलाएगी। इसके आने का समय भी हमारे उपर है। यदि सभी ने कोरोना के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन कर दिया, तो तीसरी आने से रोका जा सकता है। हमें अधिक सतर्क रहने की जरूरत है। अधिक जरूरी नहीं हो तो घर से बाहर निकलने से से बचें। जब भी घर से बाहर निकलें, मास्क लगाकर ही निकलें। साबुन से हाथ धोते रहें। जब किसी चीज को स्पर्श करें, तब सैनिटाइजर का उपयोग जरूर करें। त्यौहार मनाते हुए इस साल जो कमियां रह जाएंगी, उन्हें अगले साल पूरी कर लेंगे। अभी स्वास्थ्य जरूरी है। मित्र और प्रियजनों से वर्चुअली मिलें। फोन पर या सोशल मीडिया के जरिए बात कर लें।