कांग्रेस ने किया प्रस्ताव पास, कौन होगा अगला अध्यक्ष

दिल्ली में कांग्रेस का चिंतन शिविर आयोजित किया गया। पार्टी पूर्णकालिक अध्यक्ष के लिए प्रयास कर रही है। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का कहना है कि पार्टी ने एक प्रस्ताव पास किया है। राहुल गांधी को लेकर भी बात हुई है। आने वाले समय में कांग्रेस अपने नए पूर्णकालिक अध्यक्ष की घोषणा कर सकती है।

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी को बीते साल से पूर्णकालिक अध्यक्ष नहीं मिल रहा है। अंतरिम अध्यक्ष के रूप में सोनिया गांधी काम कर रही है। एक के बाद एक कई पुराने और कद्दावर नेताओं ने पार्टी भी छोड़ दी है। अब खबर आ रही है कि कांग्रेस की दो दिवसीय चिंतन शिविर में नए कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर प्रस्ताव पास किया गया है।

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार का कहना है कि आज कांग्रेस अध्यक्ष बनाने को लेकर एक प्रस्ताव पास हुआ है। राहुल जी को लेकर दिल्ली के नवसंकल्प शिविर में दो दिन की चर्चा में आम कार्यकर्ताओं की भावनाएं हैं। सरकार लोगों में भय पैदा करने की कोशिश कर रही है। अगर आप राहुल गांधी को नोटिस भेजेंगे तो लाखों लोग उनके साथ गिरफ़्तारी देने के लिए तैय़ार हैं। आज राहुल जी को कांग्रेस को संभालने और नेतृत्व देने की आवश्यकता है। वहीं बात मैनें तमाम नेताओं के सामने रखी और सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास हुआ।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि चिंतन शिविर में बात सामने आई कि जिस प्रकार से देश को नफरत की राजनीति में झोंक दिया है, जिस प्रकार से अंग्रेज़ों ने फूट डालो और शासन करो की नीति अपनाई थी उसी प्रकार से बीजेपी जाति और धर्म के नाम पर लोगों को बांट रही है। जिस प्रकार से भारत के संस्कार,संस्कृति और हमारे इतिहास को तोड़ने का प्रयास किया जा रहा है इसलिए आवश्यक हो गया है कि कांग्रेस देश की अनेकता में एकता को अभियान के रूप में चलाए। उसकी आज पहली बैठक थी। ये अभियान 2 अक्टूबर से शुरू होगा।

इससे पहले कांग्रेस ने मल्लिकार्जुन खड़गे को महाराष्ट्र के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। पवन कुमार बंसल और टीएस सिंहदेव को राजस्थान, भूपेश बघेल और राजीव शुक्ला को हरियाणा के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जब संकट आया था, तब सरकार को बचाने के लिए जो आगे खड़े थे उनसे BJP को उम्मीद नहीं करनी चाहिए थी। छोटी-मोटी नाराजगी थी लेकिन अब कोई शिकायत नहीं है। मिलकर तीनों सीटें(राज्यसभा चुनाव) कांग्रेस जितेगी।