Republic Day 2022 : 13 वर्षों की सेवा के बाद रिटायर हुआ ‘विराट’

13 सालों तक अपनी सेवाएं और गणतंत्र दिवस परेड की अगुवाई कर चुका है। विराट को मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ ही पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रणब मुखर्जी को औपचारिक परेडों में अनुग्रह और गरिमा के साथ एस्कॉर्ट करने का गौरव प्राप्त है।

नई दिल्ली। अपनी सेवाभक्ति से देश में मिसाल बना चुका विराट अब रिटायर हो रहा है। देश के तीन महामहिम प्रतिभा सिंह पाटिव, प्रणब मुखर्जी और अब रामनाथ कोविंद के अंगरक्षक घुड़सवारों की अगुवाई करने वाले चार्जर विराट देश के 73वें गणतंत्र दिवस के परेड के बाद रिटायर हो रहा है। उसकी सेवा को लेकर हाल ही में उसे सम्मानित किया गया है। अब उसकी उम्र 21 वर्ष हो चुकी है, जबकि अमूमन 17-18 वर्ष में ही घोडे़े को अंगरक्षक सेवा से रिटायर कर दिया जाता है।
73वें गणतंत्र दिवस के परेड समापन के अवसर पर राजपथ पर महामहिम रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विराट को छूकर उसका मस्तक सहलाया। असल में, यह भारत सरकार की ओर से एक दुलार था, जिसे विराट की स्वामीभक्ति और देशसेवा के लिए उसे दिया गया है। विराट को पिछले 13 सालों से भारत के पूर्व राष्ट्रपतियों के साथ-साथ मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को औपचारिक परेडों में अनुग्रह और गरिमा के साथ एस्कॉर्ट करने का गौरव प्राप्त है। परेड के दौरान विराट को सबसे भरोसेमंद घोड़ा माना जाता है। बता दें कि यह कोई आम घोड़ा नहीं बल्कि देश के राष्ट्रपति के अंगरक्षक परिवार में शामिल विराट घोड़ा है जिसे प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड का चार्जर भी कहा जाता है।
बता दें कि राष्ट्रपति के बेड़े के विशेष घोड़े ‘विराट’ को प्रेजिडेंट्स बॉडीगार्ड के चार्जर के तौर पर भारतीय सेना ने विशेष सम्मान दिया है। विराट को अपनी योग्यता और सेवाओं के लिए चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कॉमनडेशन कार्ड से सम्मानित किया गया है। विराट यह प्रशस्ति पत्र प्राप्त करने वाला राष्ट्रपति के अंगरक्षक बेड़े का पहला घोड़ा है।