Hindi Diwas 2021 : 2014 के बाद हिंदी बोलने वालों की संख्या बढ़ी, गृहमंत्री अमित शाह ने कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में हिंदी का प्रचार प्रसार हुआ है। आम लोगों के साथ ही संसद में भी हिंदी बोलने वाले अधिक सांसदों को देखा जा सकता है। यह हिंदी के लिए सुखद संकेत है।

नई दिल्ली। 14 सितंबर को हिंदी दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि 2014 के बाद से आप सब ने एक गुणात्मक परिवर्तन देखा होगा। भारतीय भाषाओं में बोलने वाले सांसदों की संख्या बहुत बढ़ी है। इसका मुझे बहुत-बहुत आनंद है। उन्होंने कहा कि किसी भी भारतीय भाषा का एकदूसरे से स्पर्धा नहीं है। सभी भारतीय भाषाएं एकदूसरे की पूरक है, एकदूसरे को बल देती है। इसलिए हिंदी और देवनागरी को स्वीकार करने के साथ ही हमने सभी भाषाओं को स्वीकार करने का निर्णय लिया।

यह कार्यक्रम विज्ञान भवन में आयोजित किया गया था। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि भाषा मनोभाव व्यक्त करने का सबसे सशक्त माध्यम है। हिंदी हमारी सांस्कृतिक चेतना व राष्ट्रीय एकता का मूल आधार होने के साथ-साथ प्राचीन सभ्‍यता व आधुनिक प्रगति के बीच एक सेतु भी है। मोदी जी के नेतृत्व में हम हिंदी व सभी भारतीय भाषाओं के समांतर विकास के लिए निरंतर कटिबद्ध है।

यदि हम केंद्रीय मंत्रालय के कामकाज को देखें तो पाते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्रित्व काल में हिंदी में कामकाज बढ़ा है। सोशल मीडिया पर हिंदीभाषी लोगों की आवाजाही बढ़ी है। हाल ही में पेश की गई नई शिक्षा नीति में भी हिंदी सहित अन्य भारतीय भाषाओं को शिक्षा क्षेत्र में उचित स्थान देने की बात कही गई है।