इंडिया इंक. के 85% लोगों को 2024 में प्रमोशन, कॅरियर में बदलाव और वेतन बढ़ने की उम्‍मीद – सिम्‍पलीलर्न का सर्वे

जवाब देने वाले 97% लोगों का मानना है कि कॅरियर के बेहतर अवसरों का एक महत्‍वपूर्ण पहलू अपस्किलिंग है.  जवाब देने वाले 65% लोग ऑनलाइन प्रमाणन के कोर्सेस में एनरोल्‍ड हैं और वे लगातार सीखने पर जोर देते हैं.  डेटा साइंस, एआई, प्रोजेक्‍ट मैनेजमेंट, क्‍लाउड कंप्‍यूटिंग और साइबरसिक्‍योरिटी सबसे वांछित कुशलताओं के रूप में उभरी

 

नई दिल्ली। सिम्‍पलीलर्न, दुनिया में डिजिटल कौशल के अग्रणी ऑनलाइन बूटकैम्‍प, ने अपने 2024 स्‍टेट ऑफ अपस्किलिंग कंज्‍यूमर सर्वे की महत्‍वपूर्ण जानकारियाँ साझा की हैं। यह सर्वे विभिन्‍न उद्योगों में कामकाजी पेशेवरों और सीएक्‍सओ के लिये अपस्किलिंग तथा पेशेवर तरक्‍की के उत्‍साही परिदृश्‍य पर रोशनी डालता है। यह कॅरियर में प्रगति, अपस्किलिंग की प्राथमिकताओं और डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था के विकसित हो रहे परिदृश्‍य पर बदलती संभावनाएं तलाशता है।

यह सर्वे विभिन्‍न उद्योगों, भौगोलिक जगहों और कॅरियर की अवस्‍थाओं के लेकर विभिन्‍न प्रोफेशनल पर किया गया है। 2024 कंज्‍यूमर सर्वे में 2023 की तुलना में सीखने वालों के रुख में उल्‍लेखनीय बदलाव दिखता है। 2024 में 65% प्रोफेशनल्‍स ने पार्ट-टाइम या ऑनलाइन प्रमाणन पसंद किये, जोकि 2023 के 51% प्रोफेशनल्‍स की तुलना में काफी ज्‍यादा हैं। इसके उलट, सेल्‍फ-स्‍टडी पसंद करने वाले प्रोफेशनल्‍स का प्रतिशत 2024 में थोड़ा बढ़कर 25% हुआ (यह 2023 में 23% था)। इसी तरह, फुल-टाइम कॉलेज एनरोलमेन्‍ट के लिये रुझान बहुत कम हो गया। यह 2023 में 7% था, जबकि 2024 में 2% रह गया। यह बदलाव प्रोफेशनल्‍स लोगों के बीच शिक्षा के पारंपरिक तरीकों पर कम होती निर्भरता दिखाता है। इसमें अपस्किलिंग के प्‍लेटफॉर्म्‍स को पसंद किये जाने का एक बड़ा ट्रेंड दिखता है।

सिम्‍पलीलर्न 2024 कंज्‍यूमर सर्वे रिपोर्ट के परिणाम:
• कॅरियर में अपेक्षाएं: जवाब देने वाले 85% लोगों को अपस्किलिंग के बाद कॅरियर में बदलाव चाहिये। इससे रोजगार के एक उत्‍साही बाजार का पता चलता है।
• अपस्किलिंग के लिये रुझान: जवाब देने वाले 45% लोगों ने अपनी कंपनी या वांछित कार्यक्षेत्र में नये अवसरों का फायदा लेने के लिये अपस्किल होने की जरूरत बताई।
● अपस्किलिंग की पसंदीदा विधियाँ: अपस्किल होने की चाहत रखने वाले लोगों में से 65% को पार्ट-टाइम ऑनलाइन प्रोग्राम्‍स या कोर्सेस में एनरोल होना है। इससे सीखने के लचीले विकल्‍पों का महत्‍व पता चलता है।
● डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था के शीर्ष कौशल: जवाब देने वालों ने डेटा साइंस एवं बिजनेस एनालिटिक्‍स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एवं मशीन लर्निंग, प्रोग्राम एण्‍ड प्रोजेक्‍ट मैनेजमेंट, क्‍लाउड कंप्‍यूटिंग एवं डेवऑप्‍स, साइबर सिक्‍योरिटी, प्रोडक्‍ट मैनेजमेंट तथा सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट को सबसे मांग वाली कुशलताएं बताया। इस तरह अत्‍याधुनिक टेक्‍नोलॉजीज में विशेषज्ञता की मांग दिखाई पड़ती है।

सर्वे में जवाब देने वाले लोगों की जानकारी:
● लैंगिक विभाजन: जवाब देने वाले लोगों में 67% पुरुष और 31% महिलाएं थीं, जबकि 1% लोगों ने अपनी लैंगिक पहचान नहीं बताना चाहा।
● रोजगार के स्‍तर: अधिकांश लोगों (53%) ने खुद को निजी तौर पर योगदान देने वाला बताया, जबकि मैनेजर 28% और विद्यार्थी 15% थे।
● उद्योग: टेक्‍नोलॉजी और कंप्‍यूटर्स 39% के साथ सबसे आगे रहे। उनके बाद बैंकिंग, वित्‍तीय सेवाएं, बीमा (11%) और स्‍वास्‍थ्‍यरक्षा तथा जीवन विज्ञान (8%) थे।

सर्वे पर अपने विचार व्‍यक्‍त करते हुए, सिम्‍पलीलर्न के को-फाउंडर एवं चीफ ऑपरेटिंग ऑफीसर श्री कश्‍यप दलाल ने कहा, ‘‘आईटी उद्योग के उत्‍साही एवं लगातार बदलने वाले परिदृश्‍य में प्रोफेशनल्‍स का भविष्‍य के लिये अपस्किल होना जरूरी है। इस उद्योग में बाजार अक्‍सर अनिश्चित रहता है। जवाब देने वाले लोगों में से 65% ऑनलाइन प्रमाणन के कोर्स कर रहे हैं। और उनमें से 97% ने माना है कि अपस्किलिंग से 2024 तक उनके कॅरियर की संभावना बहुत अच्‍छी हो जाएगी। यह आंकड़े अपस्किलिंग के महत्‍व को रेखांकित करते हैं। यह खासकर विकसित हो रहे कार्यक्षेत्रों के लिये है, जैसे कि डेटा साइंस, एआई और साइबरसिक्‍योरिटी। आज की डिजिटल अर्थव्‍यवस्‍था में यह कार्यक्षेत्र और भी विकास करेंगे।‘’