जारी है किसान महापंचायत, पुलिस प्रशासन की है विशेष नजर

मुजफ्फरनगर। किसानों की महापंचायत जारी है। भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई में हजारों की संख्या में किसान यहां पहुंचे हैं। राकेश टिकैत सहित कई अन्य किसान नेता किसानों को संबोधित कर रहे हैं। वहीं, दूसरी ओर पुलिस प्रशासन इस महापंचायत पर विशेष नजर रखे हुए हैं। सीसीटीवी से विशेष निगरानी की जा रही है, ताकि किसी भी हरकत पर तुरंत नजर रखी जा सके।
भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत मुज़फ़्फ़रनगर में आयोजित किसान महापंचायत में हिस्सा लेने के लिए मुज़फ़्फ़रनगर पहुंचे। उन्होंने कहा, “ये महापंचायत पूरे देश में होगा। हमें देश बिकने से बचाना है। हमारी मांग रहेगी कि देश, किसान, व्यापार और युवा बचे।”
एक महिला किसान ने बताया,”हम यहां 3 क़ानूनों को वापस कराने के लिए इकट्ठा हुए हैं। PM से हमारा अनुराध है कि इस आंदोलन को 9 महीने हो गए हैं इससे और न बढ़ाएं तथा 3 क़ानूनों को वापस लें।”
इस संदर्भ में उत्तर प्रदेश एडीजी प्रशांत कुमार का कहना है कि किसानों की महापंचायत मुज़फ़्फ़रनगर में चल रही है इसे लेकर सभी व्यवस्था की गई हैं। मेरठ ज़ोन के फोर्स के अतिरिक्त PAC की 25 कंपनियां दी गई हैं। आने-जाने वाले लोगों को वहां पर कोई परेशानी ना हो यह भी सुनिश्चित किया जा रहा है। जहां पर भीड़ है वहां CCTV कैमरे की मदद से हम नज़र रख रहे हैं। आयोजकों से बातें की गई हैं। उनको बोला गया है कि उनके बीच कोई असामाजिक तत्व ना आ जाए जिससे कुछ गड़बड़ी हो। अब तक किसान आंदोलन प्रदेश में शांतिपूर्ण तरह से चला है।
इसके साथ ही राजनीतिक दलों की नजर भी इस महापंचायत पर है। अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होना है। सरकार की ओर से भले ही गन्ना किसानों को कई लाभकारी योजनाएं दी गई हों, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसानों का विरोध भाजपा को भारी पड़ सकता है।