Cricket : किसने कहा मिताली को महिला सचिन तेंदुलकर ?

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की मिताली राज जाना पहचाना नाम है। उनके नाम कई रिकॉर्डस हैं। इसी के हवाले से पूर्व कप्तान शांता रंगास्वामी ने कहा है कि मिताली सचिन तेंदुलकर और सुनील गावस्कर जैसी हैं। इसके बाद बहस शुरू हो गई है।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट की दुनिया में सचिन तेंदुलकर को भगवान का दर्जा दिया गया है। उनके चाहने वालों के लिए इसके पीछे कई तर्क हैं। क्रिकेट में कई विश्व रिकॉर्ड सचिन के नाम हैं। जब हम महिला क्रिकेट की बात करते हैं, तो भारतीय टीम में मिताली राज (Mitali Raj) को वही इज्जत हासिल है, जो सचिन को है। अब तो उन्हें भारतीय महिला क्रिकेट टीम का सचिन तेंदुलकर कहा गया है।

असल में, पूर्व भारतीय कप्तान शांता रंगास्वामी (Shanta Rangaswami) ने मिताली राज को महिला क्रिकेट की ‘सचिन तेंदुलकर’ करार देते हुए कहा कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने का उनका रिकार्ड लंबे समय तक कायम रहेगा।

ऐसा नहीं है कि शांता रंगास्वामी (Shanta Rangaswami) ने बिना तथ्य के ये बातें कह दी हो। जब हम मिताली राज (Mitali Raj) के करियर को देखते हैं, तो हमें कई रिकॉर्ड मिलते हैं। अपने दम पर कई मैचों को जीतने की क्षमता नजर आती है। बता दें कि मिताली राज के नाम पर वनडे में सर्वाधिक रन बनाने का रिकार्ड पहले से ही दर्ज था।

आंकड़े बताते हैं मिताली राज (Mitali Raj) ने महिला क्रिकेट में शनिवार को सभी प्रारूपों में मिलाकर सर्वाधिक रन बनाने का इंग्लैंड की पूर्व कप्तान चार्लोट एडवर्ड्स का रिकार्ड तोड़ा। सबसे अहम बात यह है कि अंतरराष्ट्रीय महिला क्रिकेट में केवल इन्हीं दो खिलाड़ियों ने 10,000 से अधिक रन बनाये हैं। और तो और, मिताली राज ने भारत की ओ से खेलते हुए टेस्ट और वनडे कप्तान ने 50 ओवरों के प्रारूप में 51.80 की औसत से रन बनाये हैं।

इन्हीं सब आंकड़ों के आधार पर पूर्व भारतीय कप्तान और भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) की शीर्ष परिषद की भी सदस्य शांता ने कहा कि मिताली (Mitali Raj) ने जो हासिल किया है वह महान सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर की उपलब्धियों के बराबर है। मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं कि वह लंबे समय तक पर शीर्ष पर रहेगी। मुझे नहीं लगता कि हाल फिलहाल उनका रिकार्ड टूट पाएगा।