भारत का सी-फूड निर्यात पहुंचा उच्चतम स्तर पर

प्रमुख निर्यात वस्तुओं में फ्रोजन झींगा और फ्रोजन मछली शामिल हैं

नई दिल्ली। महत्वपूर्ण निर्यात बाजारों में विभिन्न चुनौतियों के बावजूद भारत का सी-फूड निर्यात वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान परिमाण के आधार पर अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है। भारत ने 2023-24 के दौरान 60,523.89 करोड़ रुपये (7.38 बिलियन अमेरिका डॉलर) मूल्य का 17,81,602 मीट्रिक टन सी-फूड निर्यात किया गया।

परिमाण और मूल्य के हिसाब से फ्रोजन झींगा प्रमुख निर्यात वस्तु बनी रही, जबकि अमेरिका और चीन भारत के सी-फूड के प्रमुख आयातक बन गए। वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान, मात्रा के हिसाब से निर्यात में 2.67 प्रतिशत का सुधार हुआ। वर्ष 2022-23 में भारत ने 63,969.14 करोड़ रुपये (8,094.31 मिलियन अमेरिकी डॉलर) मूल्य के 17,35,286 मीट्रिक टन सी-फूड निर्यात किए। समुद्री उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एमपीईडीए) के अध्यक्ष श्री डीवी स्वामी आईएएस ने कहा, “भारत ने अमेरिका, यूरोपीय संघ और ब्रिटेन जैसे अपने प्रमुख निर्यात बाजारों में कई चुनौतियों के बावजूद 7.38 बिलियन अमेरिकी डॉलर मूल्य के 17,81,602 मीट्रिक टन सी-फूड का निर्यात करके मात्रा के मामले में अब तक का सबसे उच्च निर्यात दर्ज किया है।”

फ्रोजन झींगा ने 40,013.54 करोड़ रुपये (4881.27 मिलियन अमेरिकी डॉलर) की आय की। इस प्रकार फ्रोजन झींगा ने सी-फूड निर्यात बास्केट में शीर्ष वस्तु के रूप में अपना स्थान बरकरार रखा, जिसकी मात्रा में 40.19 प्रतिशत और कुल डॉलर आय में 66.12 प्रतिशत हिस्सेदारी रही। इस अवधि के दौरान झींगा निर्यात में मात्रा के लिहाज से 0.69 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

वर्ष 2023-24 के दौरान फ्रोजन झींगे का निर्यात 7,16,004 मीट्रिक टन आंका गया था। सबसे बड़े बाजार, अमेरिका ने 2,97,571 मीट्रिक टन फ्रोजन झींगे का आयात किया, इसके बाद चीन (1,48,483 मीट्रिक टन), यूरोपीय संघ (89,697 मीट्रिक टन), दक्षिण पूर्व एशिया (52,254 मीट्रिक टन), जापान (35,906 मीट्रिक टन) और मध्य पूर्व (28,571 मीट्रिक टन) का स्थान रहा।

वर्ष 2023-24 में ब्लैक टाइगर (बीटी) झींगा के निर्यात में मात्रा, रुपये और अमेरिकी डॉलर के लिहाज से क्रमशः 24.91 प्रतिशत, 11.33 प्रतिशत और 8.28 प्रतिशत की वृद्धि हुई। बीटी झींगा का निर्यात 38,987 मीट्रिक टन के बराबर किया गया, जिसकी कीमत 2855.27 करोड़ रुपये (347.84 मिलियन अमेरिकी डॉलर) थी। चीन (हांगकांग सहित) ब्लैक टाइगर झींगा के लिए प्रमुख निर्यात गंतव्य बन गया, जिसकी अमेरिकी डॉलर मूल्य के संदर्भ में 28.43 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, इसके बाद अमेरिका (18.21 प्रतिशत), यूरोपीय संघ (18.06 प्रतिशत) और जापान (13.12 प्रतिशत) का स्थान रहा। स्कैम्पी निर्यात ने 2023-24 में मात्रा, रुपये और अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में क्रमशः 6.42 प्रतिशत, 23.22 प्रतिशत और 18.96 प्रतिशत का सकारात्मक रुझान देखा गया है। 2023-24 में वन्नामेई झींगा निर्यात में मात्रा के हिसाब से 0.33 प्रतिशत की वृद्धि हुई है; हालांकि, वे 4809.99 मिलियन अमेरिकी डॉलर से 11.56 प्रतिशत घटकर 4253.86 मिलियन अमेरिकी डॉलर हो गए।

विदेशी बाजारों के संदर्भ में, अमेरिका मूल्य के संदर्भ में भारतीय सी-फूड का प्रमुख आयातक बना रहा, जिसका आयात 2,549.15 मिलियन अमेरिकी डॉलर का था, जो अमेरिकी डॉलर मूल्य के संदर्भ में 34.53 प्रतिशत की हिस्सेदारी रखता है। अमेरिका को निर्यात में मात्रा और मूल्य के संदर्भ में 7.46 प्रतिशत और 1.42 प्रतिशत की वृद्धि हुई; हालांकि, अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में इसमें 3.15 प्रतिशत की गिरावट आई। फ्रोजन झींगा अमेरिका को निर्यात की जाने वाली प्रमुख वस्तु बनी रही, जिसका अमेरिकी संदर्भ में 91.90 प्रतिशत हिस्सा था। अमेरिका को ब्लैक टाइगर झींगा का निर्यात मात्रा के संदर्भ में 35.37 प्रतिशत और मूल्य के संदर्भ में 32.35 प्रतिशत बढ़ा।

चीन (हांगकांग और ताइवान को छोड़कर) अमेरिकी डॉलर के संदर्भ में भारत के लिए दूसरा सबसे बड़ा सी-फूड निर्यात गंतव्य देश बनकर उभरा है, जिसमें 4,51,363 मीट्रिक टन आयात मात्रा है। इसका मूल्य 1,384.89 मिलियन अमेरिकी डॉलर है, जो मात्रा के हिसाब से 25.33 प्रतिशत और अमेरिकी डॉलर के हिसाब से 18.76 प्रतिशत है। चीन को निर्यात मात्रा के हिसाब से 12.80 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई; हालांकि, वे रुपये मूल्य में 0.88 प्रतिशत और अमेरिकी डॉलर मूल्य में 4.21 प्रतिशत घट गए। चीन को निर्यात की जाने वाली प्रमुख वस्तु फ्रोजन झींगा की मात्रा के हिसाब से 32 प्रतिशत और यूएस डॉलर मूल्य के हिसाब से 55.11 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, जबकि फ्रोजन मछली की मात्रा के हिसाब से 36.83 प्रतिशत और यूएस डॉलर मूल्य के हिसाब से 21.56 प्रतिशत की दूसरी सबसे बड़ी हिस्सेदारी थी।

फ्रोजन झींगा जापान को निर्यात की प्रमुख वस्तु बनी रही, जिसकी मात्रा में हिस्सेदारी 33.26 प्रतिशत, रुपये में 65.94 प्रतिशत तथा अमेरिकी डॉलर मूल्य में 65.98 प्रतिशत रही।

वियतनाम चौथे सबसे बड़े बाजार स्थान पर है, जिसने 1,32,086 मीट्रिक टन का आयात किया, जिसका मूल्य 391.41 मिलियन अमेरिकी डॉलर था। फ्रोजन झींगा का आयात में दबदबा है, जिसका अमेरिकी डॉलर आय में 55.43 प्रतिशत और मात्रा में 30.11 प्रतिशत हिस्सा है। इसके बाद सूखे आइटम हैं।

थाईलैंड पांचवां सबसे बड़ा बाजार है, जिसका अमेरिकी डॉलर हिस्सा 3.82 प्रतिशत है और मात्रा के हिसाब से तीसरे स्थान (7.77 प्रतिशत हिस्सेदारी) पर है। इसका 1,38,457 मीट्रिक टन का मूल्य 281.97 मिलियन अमेरिकी डॉलर है। फ्रोजन मछली थाईलैंड को निर्यात की जाने वाली महत्वपूर्ण वस्तु रही, जिसका अमेरिकी डॉलर आय में 44.37 प्रतिशत और मात्रा में 63.91 प्रतिशत हिस्सा रहा।

कनाडा अमेरिकी डॉलर (2.70 प्रतिशत हिस्सेदारी) के मामले में छठे सबसे बड़े बाजार और मात्रा (1.40 प्रतिशत हिस्सेदारी) के मामले में दसवें स्थान पर है। इस सिलसिले में 24,956 मीट्रिक टन के हिसाब से इसका मूल्य 199.13 मिलियन अमेरिकी डॉलर है। कनाडा को निर्यात में फ्रोजन झींगा का दबदबा है, जिसकी यूएस डॉलर आय में 93.36 प्रतिशत और मात्रा के लिहाज से 89.48 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

अमेरिकी डॉलर में स्पेन सातवां सबसे बड़ा बाजार (2.65 प्रतिशत हिस्सेदारी) और मात्रा के लिहाज से छठा सबसे बड़ा बाजार (2.24 प्रतिशत हिस्सेदारी) है, जिसकी निर्यात मात्रा 39,849 मीट्रिक टन है। इसकी कीमत 195.95 मिलियन अमेरिकी डॉलर है। फ्रोजन कटलफिश स्पेन को निर्यात की जाने वाली महत्वपूर्ण वस्तु बनी रही, जिसकी अमेरिकी डॉलर में हिस्सेदारी 44.01 प्रतिशत और मात्रा के लिहाज से 33.01 प्रतिशत है।

अमेरिकी डॉलर में 2.42 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ बेल्जियम भारत के लिए सी-फूड निर्यात गंतव्यों में आठवें स्थान पर है, उसके बाद संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) (2.15 प्रतिशत हिस्सेदारी) और इटली (2.14 प्रतिशत हिस्सेदारी) का स्थान है। अमेरिकी डॉलर के लिहाज से शीर्ष 10 बाजार 79.89 प्रतिशत का योगदान करते हैं।